Deepawali Gift : तंगहाल जेडीए के Account में आए 15 करोड़

- जेडीए ने स्पेशल नीलामी काउंटर लगाकर बेची संपत्तियां

जयपुर। आर्थिक तंगहाली से जूझ रहे जयपुर विकास प्राधिकरण को दीपावली सीजन में साढ़े 15 करोड़ रूपए की कमाई हुई है। जेडीए ने परिसंपत्तियों और भूमि बिक्री से साढ़े 15 करोड़ का राजस्व जुटाया है।

जेडीसी टी. रविकांत ने बताया कि जयपुर विकास प्राधिकरण की परिसंपत्तियों एवं भूमि की नीलामी से अक्टूबर माह में साढ़े पंद्रह करोड़ रूपए से अधिक का राजस्व प्राप्त हुआ है। जेडीए हर महीने नीलामी कार्यक्रम बनाकर जेडीए परिसंपत्तियों की नीलामी कर रहा है। नीलामी में नागरिक, संस्थाएं और बिल्डर्स भाग ले रहे हैं। जेडीसी का कहना है कि जेडीए की परिसंपत्तियां जयपुर शहर की प्राइम लोकेशन पर स्थित है। इसलिए त्योहारी सीजन में शुरू की गई नीलामी प्रक्रिया को अच्छा रिस्पोंस मिला है। जेडीए ने लोगों की सुविधा को देखते हुए परिसंपत्तियों की नीलामी ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से की जा रही है। अब लोग घर बैठे हुए ही इ—आॅक्शन के जरिए नीलामी प्रक्रिया में भाग ले सकते हैं। साथ ही जेडीए ने सुबह और शाम की दो पारियों के हिसाब से विशेष काउंटर भी लगाए हैं। जिससे लोगों को नीलामी प्रक्रिया में हिस्सा लेने में आसानी रही।

37 फीसदी तक घटा दी कीमतें
यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने जेडीए 12 आवासीय योजनाओं के 2122 भूखण्डों की ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया का शुभारम्भ किया है। इनके लिए ऑनलाइन आवेदन 18 अक्टूबर से 20 नवम्बर, 2019 तक किए जा सकेंगे। योजनाओं की लॉटरी 4 दिसम्बर, 2019 को निकाली जाएगी। साथ ही जेडीए ने पहली बार नियमों में संशोधन कर योजनाओं की आरक्षित दरों में 10-37 प्रतिशत तक की कमी करते हुए खरीददारों को छूट प्रदान की है। जोन-11 की आदित्य विहार, रामचंद्र विहार, हरि एन्क्लेव, जोन-12 की यश विहार, संकल्प नगर, आनंद विहार, शौर्य नगर एवं जोन-14 की उदय विहार, अभिनव विहार विस्तार, सूर्य नगर ब्लॉक-ए, देव विहार, रोहिणी एन्क्लेव योजनाओं में एलआईजी-ए के 49 भूखण्ड, एलआईजी-बी के 36 भूखण्ड, एमआईजी के 1597 भूखण्ड एवं एचआईजी के 440 भूखण्ड का आवंटन लॉटरी किया जाएगा।


रिसोर्ट-फार्महाउस में दिखाई दिलचस्पी

जेडीए की ओर से गोनेर रोड पर गोविंदपुरा रोपाडा में 25 फार्म हाऊस हैं, जिनकी साइज 2600 से 4958 वर्गमीटर तक है। इसी लोकेशन पर 12 रिसोर्ट के लिए भूखण्ड है, जिनका आकार 8 हजार वर्गमीटर से 13 हजार वर्गमीटर तक है। इन सभी की नीलामी 12 अक्टूबर 2019 से शुरू की गई है। इन भूखण्डों की नीलामी बोली 7,700 रूपए प्रति वर्गमीटर से शुरू की गई। जिसके कारण लोगों ने जेडीए की नीलामी में दिलचस्पी दिखाई।

पैसा आया विकास को मिलेगी गति
जेडीए प्रशासन का कहना है कि नीलामी से प्राप्त राजस्व से शहर में चल रहे विकास कार्यों को गति दी जाएगी। जेडीए शहर में बारिश से क्षतिग्रस्त हुई सड़कों की मरम्मत करवाएगा। साथ ही जो प्रोजेक्ट पैसे की कमी के कारण बाधित हो रहे थे, उन्हें भी अब गति मिलेगी। गौरतलब है कि देश की अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती का असर रियल एस्टेट सेक्टर पर पड़ने के कारण पिछले कुछ अर्से से जेडीए की कमाई प्रभावित हो रही थी। इसे देखते हुए जेडीए ने दीपावली सीजन में नीलामी प्रक्रिया शुरू की।

Pawan kumar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned