बोर्ड परीक्षा रद्द करने की मांग


संयुक्त अभिभावक संघ ने की मांग
कहा :परीक्षा की आड़ में लूट रहे स्कूल संचालक

By: Rakhi Hajela

Published: 20 May 2021, 05:31 PM IST



जयपुर, 20 मई
संयुक्त अभिभावक संघ ने राज्य सरकार से आरबीएसई बोर्ड की कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षा रद्द कर विद्यार्थियों ाके प्रमोट करने की मांग की है। संघ ने कहा कि परीक्षा की आड़ लेकर निजी स्कूल संचालक अभिभावकों पर दबाव बना रहे हैं और फीस के नाम पर लूट रहे हैं। संघ के प्रदेश प्रवक्ता अभिषेक जैन बिट्टू ने बताया कि सीबीएसई बोर्ड ने कक्षा 10वीं की परीक्षा रद्द कर स्टूडेंट्स को अगले सत्र की तैयारी करने का पूरा अवसर दिया, ठीक उसी तरह 12वीं कक्षा के स्टूडेंट्स को भी अवसर प्रदान कर आगे के भविष्य को लेकर स्वत्रंत कर देना चाहिए। बार.बार परीक्षा की तारीख बदलने से स्टूडेंट्स का भविष्य अधर में लटका हुआ है और वह करियर को लेकर कन्फ्यूज हो रहे हैं। जबकि राज्य सरकार ने 10वीं और 12वीं की परीक्षा को लेकर स्टूडेंट्स को अंधेरे में रखा हुआ है जिसका खामियाजा अभिभावकों को भुगतना पड़ रहा है। राज्य सरकार ने परीक्षा स्थागित करने का निर्णय लेकर निजी स्कूलों को अभिभावकों पर हावी कर दिया है और जो सत्र अब तक समाप्त हो जाना चाहिए था वह चल रहा है। फीस को लेकर पहले ही विवाद चल रहा है जिसको लेकर ना सरकार गम्भीर है और ना ही प्रशासन गंभीर है।
संघ के कोषाध्यक्ष सर्वेश मिश्रा ने कहा प्रदेश का अभिभावक फीस में राहत चाहता है,लेकिन निजी स्कूल अभिभावकों को मैसेज और फोन कॉल के माध्यम से दबाब बना रहे हैं। राज्य सरकार और शिक्षा विभाग को अपनी भूमिका तय करनी चाहिए। संघ के जयपुर जिलाध्यक्ष युवराज हसीजा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने 3 मई को अपना फैसला सुनाया उसके बावजूद निजी स्कूल कोर्ट के आदेश की पालना ना कर लगातार अवमानना कर रहे हैं। बच्चों की पढ़ाई रोक दी है। फीस की तिथि निर्धारित कर अभिभावकों को डराया.धमकाया रहे हैं कि इतनी तारीख तक फीस जमा नहीं होगी तो हम समझ लेंगे की आप अपने बच्चों को पढ़ाना नहीं चाहते हैं। सरकार आदेश की पालना नहीं करवा रही, शिकायतें भेजने के बावजूद शिक्षा विभाग कार्यवाही नहीं कर रहा है आखिरकार इनकी भूमिका कौन तय करेगा।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned