मृत किसान पुखराज को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग


परिवार को एक करोड़ का मुआवजा दे सरकार
किसानों पर किए गए मुकदमे लिए जाएं वापस
भारतीय किसान संघ ने की मांग

By: Rakhi Hajela

Published: 02 Sep 2020, 09:55 PM IST

भारतीय किसान संघ ने धरने के दौरान तबीयत बिगडऩे के बाद मृत पुखराज के परिवार को 1 करोड़ का मुआवजा व परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी दिलाने की मांग की है। साथ ही उन्हें शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग भी की है। किसान संघ के प्रदेश महामंत्री कैलाश गंदोलिया ने किसानों पर किए गए मुकदमे भी वापस लिए जाने की मांग की। उनका कहना था कि यदि सरकार कोरोना की झूठी आड़ लेकर किसानों की आवाज को कुचलने की षड्यंत्र से बाज नहीं आई तो भारतीय किसान संघ जोधपुर की तरह सभी जिलों में ग्राम से संग्राम के आह्वान करेगा। उनका कहना था कि भारतीय किसान संघ राजस्थान प्रदेश के नेतृत्व में पिछले 25 दिन से जोधपुर में किसान अपने अधिकार व हक के लिए
धरने पर बैठे थे। धरने के दौरान तबियत बिगड़ने से पुखराज शहीद हो गए। सरकार की असंवेदनशीलता के चलते पहले ही राजस्थान में किसानों ने आत्महत्या की है। भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में मर्यादित आंदोलन चलाते हुए प्रदेश के सभी जिले के किसानों ने 12 फरवरी से विभिन्न माध्यमों द्वारा 3500 से अधिक ज्ञापन देकर सरकार व प्रशासन को स्पष्ट चेताया कि किसानों की समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो किसान भारतीय किसान संघ के नेतृत्व आंदोलन को व्यापक रूप दिया जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी सरकार व प्रशासन की होगी।
प्रदेश महामंत्री कैलाश गंदोलिया ने कहा कि इसी क्रम में 5 अगस्त से किसान धरना कर रहे थे। धरने के 25 वें दिन
सरकार की असंवेदनशीलता के कारण पुखराज शहीद हो गए और अब विडंबना है कि राज्य सरकार किसानों की आवाज कुचलने के लिए सरकारी तंत्रों का दुरुपयोग कर किसान पुखराज को कोरोना पॉजिटिव प्रर्दशित कर दिया है, जो दुर्भाग्यपूर्ण हैं। भारतीय किसान संघ शांति व संयम के साथ पुखराज को न्याय दिलाने के लिए कटिबद्ध है।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned