Letter to the prime minister-सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाए जाने की मांग

सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाए जाने की मांग
प्रधानमंत्री को लिखा पत्र

By: Rakhi Hajela

Published: 18 Apr 2020, 05:00 PM IST


भारतीय ग्रामीण डाक सेवक कर्मचारी संघ राजस्थान परिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। पत्र के माध्यम से उन्होंने कोविड.19 के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में एईपीएस एवं आईपीपीबी के कार्य करने के लिए ग्रामीण डाक सेवकों को समुचित सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाए जाने की मांग की है जिससे ग्रामीण डाक सेवक बिना किसी भय के कार्य कर सकें। उन्होंने पत्र के माध्यम से बताया कि कोविड १९ के बीच भी ग्रामीण डाकसेवक अपनी जान की परवाह किए बिना सेवाएं दे रहे हैं। ग्रामीण डाक सेवकों के कार्य का समय तीन से पांच घंटे हैं लेकिन इसके बाद भी ग्रामीण डाक सेवक ६ से़८ घंटे तक काम कर रहे हैं। उनका एईपीएस भुगतान और आईपीपीबी का कार्य बायोमेट्रिक आधारित ह कर्मचारी संघ के ग्रामीण डाक सेवकों को कुछ प्रमुख सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाए रू.
री मालीराम स्वामी
राष्ट्रीय सहायक महासचिव एवं परिमंडल सचिव मालीराम स्वामी, परिमंडल अध्यक्ष सत्यनारायण पारीक और क्षेत्रिय सचिव बक्सा राम मेहरा ने कहा कि कोविड.19 के दौरान कार्य करने वाले ग्रामीण डाक सेवकों का १०लाख रुपए का बीमा किया गया है इसे बढ़ा कर ५० लाख रुपए किया है क्योंकि राज्य सरकार ने संविदा पर कार्य करने वालों का भी बीमा ५० लाख रुपए का किया है जबकि ग्रामीण डाक सेवक तो अपनी जान पर खेलकर एईपीएस और आईपीपीबी का कार्य कर रहे हैं। उन्होंने मांग की कि ग्रामीण डाक सेवकों का कार्य समय 8 घंटे किया जाए ताकि 3 से 5 घंटे का कार्य समय होने के बावजूद भी जो ग्रामीण डाक सेवक 8 से 10 घंटे कार्य कर रहे हैं इनका कार्य समय बढ़ाने पर यह 10 से 12 घंटे तक कार्य करने के लिए भी हमेशा तैयार रहेंगे। इसके साथ ही उन्होंने अनुकंपा नियुक्ति योग्यता के आधार पर दिए जाने की मांग की। उनका कहना था कि ग्रामीण डाक सेवक,एमटीएस, पोस्टमैन एवं डाक सहायक की योग्यता रखने वाले को उसी हिसाब से अनुकंपा नियुक्ति दी जाए।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned