विभाग की कारस्तानी, पत्नी को ही सौंप दी शिकायतों की जांच, ...मिल गई क्लीन चिट

विभाग की कारस्तानी, पत्नी को ही सौंप दी शिकायतों की जांच, ...मिल गई क्लीन चिट
विभाग की कारस्तानी, पत्नी को ही सौंप दी शिकायतों की जांच, ...मिल गई क्लीन चिट

vinod saini | Updated: 12 Sep 2019, 01:39:57 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

सिंचाई क्षेत्रीय विकास विभाग में कनिष्ठ अभियंता (Junior Engineer) पति ने सरकारी अवकाश (Government holiday) के दिनों की उपस्थिति (presence) दर्शाकर भुगतान उठा (
Payment lifted) लिया। शिकायत पर पत्नी को ही मामले की जांच की जिम्मेदारी (Investigation responsibility) दी गई तो उसने पति को क्लीन चिट (clean chit) दे दी।

-कनिष्ठ अभियंता पर अवकाश में उपस्थिति दर्शाकर भुगतान उठाने का आरोप
-दो जांच में निर्दोष, एक में दोषी माना

बीकानेर। सरकारी अवकाश (Government holiday) के दिनों में भी पंजिका में उपस्थिति (Presence in the register) दर्ज करा भुगतान उठाकर राजकोष (Treasury) को आर्थिक हानि पहुंचाने का मामला सामने आया है। इससे भी हैरत वाली बात है कि आरोपी अधिकारी के खिलाफ जांच की जिम्मेदारी (Investigation responsibility) उसकी पत्नी को ही दी गई। पत्नी ने भी पति को निर्दोष करार (clean chit) दे दिया। यह मामला सिंचाई क्षेत्रीय विकास विभाग (इंगांनप) बीकानेर का है। इसका खुलासा गोविंद विहार निवासी कविता शर्मा की ओर से मांगी गई आरटीआई में हुआ।
प्रकरण के अनुसार सीएडी में कार्यरत कनिष्ठ अभियंता नरेन्द्र पांडे के खिलाफ अवकाश के दिनों में उपस्थिति दर्शाकर भुगतान उठाने, उपस्थिति रजिस्टर में काटछांट करने की अधिकारियों को शिकायत की गई। जांच शुरू हुई और दो बार की जांच में मिलीभगत से निर्दोष करार दिया गया, जबकि एक जांच में पांडे को दोषी करार दिया गया।

इस तरह हुई जांच
शिकायतों की पहले जांच श्रीकरणपुर अधिशासी अभियंता ने की थी, जिसमें सांठ-गांठ कर कनिष्ठ अभियंता पांडे को निर्दोष साबित कर कार्यालय कार्मिकों पर दोष मंढ दिया। बाद में इन्हीं बिन्दुओं पर सिंचित क्षेत्र विकास ओफडी वृत श्रीकरणपुर के अधीक्षण अभियंता ने की तो उन्होंने पांडे को दोषी माना। वहीं संपर्क पोर्टल में भी शिकायत की गई। इसकी जांच आरोपी की पत्नी अधिशासी अभियंता हरीश पांडे ने की। उन्होंने शिकायत को ही दो बार रद्द कर दिया।

अधिकारी पर कई आरोप
आरटीआई में सामने आया कि पांडे पंजिका में सप्ताह में दो-दो रविवार दिखाते हैं। बिना अनुमति के उपस्थिति रजिस्टर में हस्ताक्षर काट-छांट कर अवकाश लेना, कार्यालय अध्यक्ष की अनुमति के बिना रजिस्टर में उपस्थिति को काटना सहित सरकारी पद का दुरुपयोग करने आदि की शिकायतें की गई थी।

मंत्री का फोन नो-रिप्लाई

कनिष्ठ अभियंता नरेन्द्र पांडे की शिकायतों के संदर्भ में जब उपनिवेशन विभाग के मंत्री भंवर सिंह भाटी से मोबाइल पर संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन बात नहीं हो पाई। मंत्री का फोन बार-बार नो-रिप्लाई होता रहा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned