scriptDeputy Mayor Greater Nagar Nigam Punit Karnawat Letter Cm Sewar Line | उप महापौर का मुख्यमंत्री को पत्र, पुरानी व जर्जर सीवर लाइन बदलने के लिए बजट में धनराशि स्वीकृत करें | Patrika News

उप महापौर का मुख्यमंत्री को पत्र, पुरानी व जर्जर सीवर लाइन बदलने के लिए बजट में धनराशि स्वीकृत करें

ग्रेटर के उपमहापौर पुनीत कर्णावट ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा है। पत्र में कर्णावट ने मुख्यमंत्री से शहर की पुरानी व जर्जर सीवर लाइनों को बदलने तथा सीवर लाइन विहीन कालोनियों में नई सीवर लाइन डालने के लिए बजट में पर्याप्त धनराशि का प्रावधान करने की मांग की है।

जयपुर

Updated: February 17, 2022 07:29:48 pm

ग्रेटर के उपमहापौर पुनीत कर्णावट ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा है। पत्र में कर्णावट ने मुख्यमंत्री से शहर की पुरानी व जर्जर सीवर लाइनों को बदलने तथा सीवर लाइन विहीन कालोनियों में नई सीवर लाइन डालने के लिए बजट में पर्याप्त धनराशि का प्रावधान करने की मांग की है।
उप महापौर का मुख्यमंत्री को पत्र, पुरानी व जर्जर सीवर लाइन बदलने के लिए बजट में धनराशि स्वीकृत करें
उप महापौर का मुख्यमंत्री को पत्र, पुरानी व जर्जर सीवर लाइन बदलने के लिए बजट में धनराशि स्वीकृत करें
उन्होंने कहा कि राजधानी जयपुर में जनसंख्या के बढ़ते दबाव तथा जर्जर सीवर लाइनों में लीकेज से भूमिगत जल प्रदूषित हो रहा है। इसे रोकने के लिए पूरे शहर में योजनाबद्ध तरीके से सीवरलाइन डालने के लिए दोनों नगर निगमों को पर्याप्त अतिरिक्त धनराशि उपलब्ध करवाने के लिए बजट में राज्य सरकार द्वारा धनराशि का प्रावधान किया जाना चाहिए। कर्णावट ने कहा कि शहर में लगभग 6 हजार किमी सीवर लाइन का जाल बिछा हुआ है, जिसमें से आधी से ज्यादा खराब हो चुकी है। पुरानी व जर्जर सीवरलाइनों में लीकेज व ब्लॉकेज होने के कारण सड़क पर गंदा पानी जमा होने तथा रोड़ धंसने की वजह से हादसों की आशंका बनी रहती है। बारिश के दिनों में समस्या अधिक गंभीर हो जाती है जब ब्लॉकेज के कारण सीवर का गन्दा पानी घरों में सप्लाई होने वाले पीने के पानी के साथ आने लगता है इससे बीमारियों का खतरा पैदा होता है।
भूमिगत जल भी हो रहा है प्रदूषित

कर्णावट ने लिखा है कि पुरानी और जर्जर हो चुकी सीवर लाइनों को चूहों द्वारा खोखला कर दिया है। जिसकी वजह से शहर का भूमिगत जल भी प्रदूषित हो रहा है। यह गंभीर बीमारियों को आमंत्रण है। साथ ही वर्तमान सीवर लाइन शहर में बढ़ते जनसंख्या के दबाव के कारण नाकाफी है। इसलिए इन लाइनों को बदला जाना जरूरी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमालैंड होते ही झटके से रूक गया यात्री विमान, सांस थामे बैठे रहे यात्रीजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.