शहर में वाहन चोरों को नहीं है भगवान और न्यायालय का डर,कड़ी सुरक्षा के बावजूद चोर कर रहे है वाहनों पर हाथ साफ

शहर में वाहन चोरों को न तो भगवान का डर है और न ही न्यायालय का। हद तो तब हो जाती है कि सीसीटीवी कैमरे में कैद होने के बाद पुलिस इन तक नहीं पहुंच पाती।

By: rajesh walia

Published: 11 Sep 2017, 01:26 PM IST

शहर में वाहन चोरों के हौंसले इतने बुलंद हैं कि इनको न तो भगवान का डर है और न ही न्यायालय का। तभी तो मंदिर आने वाले भक्तों के वाहन भी शहर में चोरी होते हैं। यही स्थिति जिला एवं सेशन न्यायालय परिसर की भी है। वहीं पुलिस कार्रवाई के नाम पर वाहन चोरों को पकड़ती तो हैं, लेकिन चोरी हुए वाहनों में से कुछ एक का पता ही लग पाता है। स्थिति यह है कि कई बार तो पेड पार्किंग में से भी वाहन चोर गाडिय़ों की चोरी कर ले जाते हैं। हद तो तब हो जाती है कि सीसीटीवी कैमरे में कैद होने के बाद पुलिस इन तक नहीं पहुंच पाती। ऐसे मामलों की शहर में कमी नहीं है। हालांकि पुलिस का दावा है कि पिछले सालों की तुलना में वाहन चोरी के मामले इस साल कम हो रहे हैं।

जिस तरह से शहर में वाहन चोरी हो रही है, उससे लगता है कि पुलिस और व्यवस्था नाम की चीज ही नहीं है। मंदिर और कोर्ट से भी गाडिय़ां खूब चोरी हो रही हैं। कई जगह तो सीसीटीवी कैमरे तक में चोर कैद हुए हैं, लेकिन पुलिस उनको पकडऩे में कामयाब नहीं हो सकी है।

 - मत शर्मा लियो, आरटीआई एक्टिविस्ट

 

पैसे देते फिर भी गाड़ी हो गई चोरी -

विधायकपुरी थाना क्षेत्र में अधिकतर गाडिय़ां पेड पार्किंग से ही चोरी हुई हैं। कई जगह पर तो सीसीटीवी कैमरे भी हैं, लेकिन इसके बाद भी आरोपित अब तक पुलिस की पकड़ से दूर हैं। हालांकि पार्किंग से गाड़ी चोरी पर ठेकेदार की जिम्मेदारी गाड़ी देने की होती है, लेकिन ऐसा मामला शायद ही कोई हुआ हो। विधायकपुरी थाना क्षेत्र से 545 गाडिय़ां चोरी हुईं हैं। इनमें से 50 फीसदी से अधिक वाहन उन जगहों से चोरी हुए हैं, जहां पर लोग पैसा देकर गाड़ी रखना सुरक्षित समझते हैं। जयपुर टॉवर, गणपति प्लाजा, सिटी मॉल, मेघालय टॉवर, संगम टॉवर, राजपूत सभा भवन, राज मंदिर से भी खूब गाडिय़ां चोरी हुई हैं।

 

शहर आराध्य के भक्तों को नहीं छोड़ा -

शहर आराध्य गोविंददेवजी मंदिर आने वाले भक्तों के वाहन खूब चोरी होते हैं। माणकचौक थाना पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार बीते सात साल में 52 वाहन मंदिर की पार्किंग से चोरी हुईं हैं। इसके अलावा चौड़ा रास्ता से 53, जौहरी बाजार 46 सहित थाना क्षेत्र से 511 वाहन चोरी हुईं हैं। इसमें पुलिस अधिकतर वाहनों का पता ही नहीं लगा पाई है। यही स्थिति सदर थाना क्षेत्र इलाके में आने वाले जिला एवं सेशन न्यायालय परिसर का भी है। 35 से अधिक गाडिय़ां चोरी हो चुकी हैं। इस दौरान थाना क्षेत्र से कुछ 63 गाडिय़ां चोरी हुई हैं।

 

पिछले साल की तुलना में 12 फीसदी वाहन चोरी कम हुई हैं। बरामदगी में भी बढ़ोतरी हुई है। जहां तक सेंट्रल पार्क की बात है, वहां पर कई एजेंसी काम कर रही हैं। जेडीए वहां पर सीसीटीवी कैमरे लगावाएगा। हमारी सख्ती के बाद भी वहां से वाहन चोरी हो रहे हैं। वहां और सख्ती करेंगे। इसके अलावा शहर के उन हॉट स्पॉट पर भी हमारी नजर है, जहां से अधिक वाहनों की चोरी होती है।

  - प्रफुल्ल कुमार,एडिशनल कमिश्नर पुलिस

Show More
rajesh walia Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned