जान की सलामती चाहते हो तो करो सरेंडर, नहीं तो..., पुलिसकर्मियों को गोली मारने वालों को डीजीपी की चेतावनी

किशनगढ़ आए पुलिस महानिदेशक लाठर ने आरोपियों को चेताया, शहीद कांस्टेबलों के घर पहुंचे पुलिस महानिदेशक, मादक पदार्थ तस्करों की गोलीबारी में दो पुलिसकर्मियों की हुई थी मौत

By: pushpendra shekhawat

Published: 12 Apr 2021, 09:49 PM IST

मदनगंज-किशनगढ़ (अजमेर)। भीलवाड़ा के रायला थाना क्षेत्र में मादक पदार्थ तस्करों की पुलिसकर्मियों से मुठभेड़ प्रकरण में पुलिस महानिदेशक एम. एल. लाठर ने कहा कि अपराधियों को पहचान लिया गया है। मैं चाहूंगा की या तो वे समर्पण कर दें नहीं तो सलामती नहीं समझें। पुलिस महानिदेशक लाठर ने यह बात मंगलवार को किशनगढ़ में कही। वे मादक पदार्थ तस्करों से मुठभेड़ में मृत कांस्टेबल पवन कुमार जाट के परिजन को ढांढस बंधाने यहां पहुंचे।

b2.jpg

उन्होंने कहा कि कई बार थानों में हथियार बराबर नहीं होते। हम सुनिश्चित करेंगे की सभी थानों में आधुनिक हथियार बराबर हों। उन्होंने कहा कि प्रकरण में सभी अपराधी जल्द पकड़े जाएंगे। उनके बारे में पुख्ता सबूत और कई अहम जानकारियां मिली हैं। सभी अपराधी जल्द पुलिस गिरफ्त में होंगे। उन्होंने कहा कि पहले पुलिस के पास थ्री नॉट थ्री राइफल इत्यादि ही होती थी।

b4_1.jpg

अब हमारे पास एसएलआर, एके-47 जैसे कई आधुनिक हथियार हैं, जो पुलिस को उपलब्ध करा रखे हैं। गौरतलब है कि भीलवाड़ा के रायला थाना क्षेत्र में शनिवार रात मादर्क पदार्थ तस्करों से मुठभेड़ में किशनगढ़ के नौजवान कांस्टेबल सांवतसर निवासी पवन कुमार जाट (34) की गोली लगने से मौत हो गई थी। इस पर डीजीपी लाठर परिवार को ढांढस बंधाने सोमवार शाम किशनगढ़ पहुंचे।

'किसी प्रकार की चिंता नहीं करें, पूरा पुलिस परिवार आपके साथ'

ml lather

पुलिस महानिदेशक लाठर शाम करीब 5 बजे भीलवाड़ा से किशनगढ़ में सांवत्सर स्थित मृतक सिपाही पवन कुमार जाट के घर पहुंचे। उन्होंने मृतक सिपाही की तस्वीर पर पुष्प अर्पित किए। इसके बाद वे सिपाही के पिता बोदूराम नुवाद, मां गोल्या देवी, पत्नी अनकार देवी एवं भाई कैलाश और जुगराज नुवाद से मिले और सांत्वना दी। मृतक सिपाही की मां गोल्या देवी ने डीजीपी लाठर से कहा कि हमें कोई परेशान नहीं करे इसका ध्यान रखना। इस पर उन्होंने कहा कि आप किसी बात की चिंता नहीं करें, पूरा पुलिस परिवार आपके साथ है। फिर भी कोई दिक्कत या जरूरत हो तो यहां एसपी और सभी पुलिस अधिकारियों को आप लोगों का ध्यान रखने के लिए कहा है। मेरे भी नम्बर ले लें और कोई जरूरत पड़े तो मुझसे जयपुर आकर मिल लें। वे यहां कुछ देर बैठे रहे और इस दौरान सिपाही के पुत्र रियांश, पुत्री वंदना के सिर पर हाथ रखा। इसके बाद जयपुर के लिए रवाना हो गए।

pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned