महिलाएं बोलीं...शराबी कसते हैं फब्तियां

Avinash Bakolia

Publish: Mar, 17 2019 08:14:09 PM (IST)

jaipur

जयपुर. 'हम जब शाम को यहां से निकलते हैं तो चौराहे पर दुकान पर शराब खरीदने वालों का जमावड़ा लगा रहता है और बाहर गाडिय़ों की लाइन। यहां से निकलने से भी डर लगा रहता है।Ó, 'दुकान से शराब लेकर लोग गाड़ी में पीते हैं और खाली बोतलें हमारे घरों के बाहर फेंक जाते हैं।Ó कुछ इस से विश्वविद्यालय नगर के लोगों ने अपनी परेशानी बताई। महल रोड, एनआरआइ चौराहा स्थित विश्वविद्यालय नगर में संचालित शराब दुकानों के विरोध में रविवार को धरना दिया गया। इस दौरान आसपास की कई कॉलोनियों के लोग जुटे और नारेबाजी की। लोगों का कहना था कि मुख्य चौराहे पर शराब की दुकान होने से लोगों का यहां से आना-जाना दुभर हो गया है। शाम को जब महिलाएं यहां से निकलती है तो समाजकंटक शराब पीकर फब्तियां कसते हैं। इसलिए कई बार उन्हें रास्ता बदलना पड़ता है। स्थानीय लोगों के अलावा शराब बंदी आंदोलन की राष्ट्रीय अध्यक्ष पूजा छाबड़ा व सर्व समाज समिति के संयोजक अनिल चतुर्वेदी, रामवतार टीलावाला सहित सैकड़ों लोगों ने धरने में भाग लिया।


महिलाओं ने बोली यहां से निकलने में भी लगता है डर
शाम को हालात बहुत ज्यादा खराब हो जाते हैं। शराब खरीदने वालों की भीड़ रहती है। सड़क पर ही शराब पीने लग जाते हैं, जिससे यहां से निकलने में भी डर लगता है।
निधि शर्मा, स्थानीय निवासी

- दुकानों के बाहर ही लोग गाडिय़ों में बैठकर शराब पीते हैं। कॉलोनी के मुख्यद्वार के बाहर की ठेका होने से रात को इस रास्ते से अंदर जाने में भी डर लगता है।
राजनती मीना, स्थानीय निवासी

पहले ही एक दुकान संचालित हो रही है, अब एक और खोलने की तैयारी की जा रही है। इससे तो हालात और भी ज्यादा खराब हो जाएंगे। हमनें धरना देकर दुकान हटाने की मांग की है ।

बीएस मीना, स्थानीय निवासी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned