विधानसभा में आज पेयजल की अनुदान मांगों पर चर्चा होगी

-प्रश्नकाल में आज लगें हैं 47 सवाल, 21तारांकित और 26 अतारांकित प्रश्न हैं, राजस्व, वन, उच्च शिक्षा, शिक्षा, स्वायत्त शासन, विधिक, और मुख्यमंत्री से जुड़े महकमों के सवाल ज्यादा

By: firoz shaifi

Published: 05 Mar 2021, 08:54 AM IST

जयपुर। विधानसभा में मुख्यमंत्री की ओर से से पेश किए गए बजट पर सरकार का जवाब आने के बाद आज से सदन में अनुदान मांगों पर चर्चा शुरू होगी। आज पेयजल की अनुदान मांगों पर चर्चा होगी जिसमें सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्य अपनी-अपनी बात सदन में रखेंगे। इससे पहले आज सदन की कार्यवाही सुबह 11 बजे प्रश्नकाल के साथ शुरू होगी।

पहला सवाल राजस्व विभाग से जुड़ा है। विधायक लक्ष्मण मीणा बस्सी विधानसभा क्षेत्र में रीको को भूमि का आवंटन का सवाल सदन में उठाएंगे। विधानसभा में आज प्रश्नकाल के दौरान सबसे ज्यादा सवाल राजस्व, वन, उच्च शिक्षा, शिक्षा, स्वायत्त शासन, विधिक, और मुख्यमंत्री से जुड़े महकमों के सवाल ज्यादा हैं।

ध्यानाकर्षण प्रस्ताव
-विधायक ज्ञानचंद पार्क पाली जिले की रोहट तहसील के कतिपय गांव की गैर आबादी भूमि को आबादी भूमि में परिवर्तित करने के लंबित प्रकरणों के निस्तारण के संबंध में राजस्व मंत्री का ध्यान आकर्षित करेंगे।


- विधायक अनिता भदेल शुभ शक्ति योजना के तहत श्रमिकों की बेटियों की शादी के लिए आर्थिक सहायता के लिए लंबित आवेदनों के शीघ्र निस्तारण करने के संबंध में श्रम राज्य मंत्री का ध्यान आकर्षित करेंगे।

अनुदान मांगों पर चर्चा
सदन में अनुदान की मांग संख्या 27 पेयजल योजना पर सदन में चर्चा होगी। 8 मार्च को पुलिस और भ्रष्टाचार निरोधक मांगे पारित होंगी। 9 मार्च को जनजाति क्षेत्रीय विकास सामाजिक सुरक्षा और कल्याण की मांगे पारित होंगी। 10 मार्च को चिकित्सा स्वास्थ्य सफाई और चिकित्सा शिक्षा की मांगे पारित होंगी।

12 मार्च को नगर आयोजना एवं प्रादेशिक विकास की अनुदान मांगे पारित होंगी। 15 मार्च को कृषि और पशुपालन चिकित्सा की मांगे पारित होंगी। 16 मार्च को शिक्षा कला संस्कृति की मांगे पारित होंगी। 17 मार्च को सड़क और पुल के साथ में शेष रही अनुदान की मांगे मुख बंद करके पारित होंगी।

 

firoz shaifi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned