ना लेना इनकी शरण...प्रशासन ने माना 11 बाजारों में 312 दुकानों के बरामदें टूटे हुए

जयपुर के बाजारों से गुजर रहे हैं और धूप या बारिश से बचने के लिए बरामदों की शरण लेने की सोच रहे हैं तो सावधान हो जाएं। जयपुर के 11 बाजारों के 312 दुकानों के आगे बने बरामदें टूट हुए हैं । यह आंकड़ा हमारा नहीं है बल्कि सरकारी एजेंसी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट लिमिटेड के सर्वे का है।

By: KAMLESH AGARWAL

Updated: 05 Sep 2019, 09:57 AM IST

जयपुर।

जयपुर के बाजारों से गुजर रहे हैं और धूप या बारिश से बचने के लिए बरामदों की शरण लेने की सोच रहे हैं तो सावधान हो जाएं। जयपुर के 11 बाजारों के 312 दुकानों के आगे बने बरामदें टूट हुए हैं । यह आंकड़ा हमारा नहीं है बल्कि सरकारी एजेंसी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट लिमिटेड के सर्वे का है।

स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने बीते दिनों शहर के बरामदों का सर्वे करवाया। इस सर्वे में सामने आया कि शहर के 11 बाजारों में बरामदें टूटे हुए हैं इनकी संख्या एक दो नहीं है बल्कि 312 बरामदें टूटे हैं इनकी पट्टियां टूट चुकी है प्लास्टर उखड़ गया है। इसी के साथ बारिश की वजह से सीलन आने से इनके टूटने का खतरा भी है। सर्वे के अनुसार रामगंज बाजार में 102 दुकानों के बरामदें टूटे हुए है वहीं त्रिपोलिया बाजार में 40,घाटगेट बाजार में 45, चांदपोल बाजार में 40, संजय बाजार में 42 दुकानों के आगे बने हुए बरामदें टूटे हुए हैं।


बरसात हो सकती है जानलेवा

इन दिनों राजधानी में बरसात का दौर चल रहा है ऐसे में बरामदों में भारी सिलन आ रही है बरसात में बरामदों के गिरने की संभावना ज्यादा होती है इन बरामदों से बरसात का पानी भी गिरता है । इस पर बरसात से बचने के लिए राहगीर इन बरामदों की शरण लेते हैं ऐसे में हादसा होने पर जानमाल का नुकसान हो सकता है।

अब होगा काम

अब स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत परकोटे के बाजारों में टूटे पड़े बरामदों का मूल स्वरूप लौटाने पर भी काम होगा। प्रोजेक्ट के तहत चारदीवारी के करीब 11 बाजारों के बरामदों का जीर्णोद्धार और मरम्मत का काम होगा। सके लिए स्मार्ट सिटी करीब 14 करोड़ रुपए खर्च करेगी। इस काम पर स्मार्ट सिटी की बोर्ड बैठक में मुहर भी लग चुकी है।

इनका कहना है

टूटे बरामदों के बारे में कई महीनों से निगम और तमाम दूसरे अधिकारियों को बता चुके हैं। परकोटे के बाजारों में बरामदें करीब 7-8 साल से टूटे हुए हैं इन्हें लेकर बाजार के व्यापारी कई दिनों से परेशान हैं। सबसे अधिक परेशानी चांदपोल बाजार और त्रिपोलिया बाजार में हैं। यहां कई दुकानों के आगे बरामदें टूटे हुए हैं। परकोटे में भूमिगत मेट्रो के काम के दौरान मेट्रो प्रशासन ने इन बरामदों के टूटी पट्टियों के नीचे बल्लियां लगाई थी। वे आज भी लगी हुई है। कई जगह तो बरामदों की पट्टियां बाहर निकल चुकी हैं।
सुभाष गोयल, अध्यक्ष जयपुर व्यापार महासंघ


त्रिपोलिया बाजार में एक दुकान के आगे बरामदें की एक पट्टी पूरी तरह से हट चुकी हैं। दुकानदारों ने बरामदों में पानी आने से उस पर तिरपाल लगाकर ढक रखा है। टूटे हुए बरामदों की वजह से व्यापारी खासे परेशान है और किसी भी तरह के हादसों से इनकार नहीं किया जा सकता है।

राजेंद्र कुमार, अध्यक्ष त्रिपोलिया बाजार

KAMLESH AGARWAL Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned