scriptDogs Digging Out Graves Of Dead Body In Shastri Nagar Kabristan | 'कब्र में भी मुर्दे नहीं सो पा रहे चैन की नींद', आदमखोर श्वानों का आतंक जानकर आपका भी दिल दहल जाएगा | Patrika News

'कब्र में भी मुर्दे नहीं सो पा रहे चैन की नींद', आदमखोर श्वानों का आतंक जानकर आपका भी दिल दहल जाएगा

पिछले 10 दिनों में बच्चों की दो कब्रों से श्वानों ने शव बाहर निकाल लिए और काफी हिस्सा नोंच लिया। मोहम्मद सलीम और नईम ने इन बच्चों के अधूरे शवों को फिर से दफनाया। इसके अलावा एक बड़ी कब्र में शव दफनाने के दूसरे दिन ही आदमखोर श्वानों ने सुरंग बना ली और अंदर पहुंच गए।

जयपुर

Updated: January 15, 2022 08:59:01 pm

अब्दुल बारी/जयपुर. शास्त्री नगर कब्रिस्तान में मुर्दों को चैन की नींद भी नसीब नहीं हो रही है। हालात ये हैं कि इनदिनों कब्रिस्तान आदमखोर श्वानों के आतंक से जूझ रहा है। जानकारी के मुताबिक पिछले 10 दिनों में दो मुर्दों के शवों को श्वानों ने कब्रों से निकाल लिए। इसके अलावा पुरानी कब्रों को खोदकर श्वान अंदर से नरकंकाल निकाल रहे हैं। हालात ऐसे हैं कि देखने वाले का दिल दहल जाए। सुरक्षा के नाम पर यहां कोई मुस्तैद नहीं है। पूरे मामले में नगर निगम हैरिटेज और वक्फ बोर्ड बेपरवाह नजर आ रहे हैं।
'कब्र में भी मुर्दे नहीं सो पा रहे चैन की नींद', आदमखोर श्वानों का आतंक जानकर आपका भी दिल दहल जाएगा
'कब्र में भी मुर्दे नहीं सो पा रहे चैन की नींद', आदमखोर श्वानों का आतंक जानकर आपका भी दिल दहल जाएगा
स्थानीय युवा मोहम्मद नईम और अफजल अहमद ने बताया कि व उनकी टीम के अन्य युवा नियमित रूप से कब्रिस्तान आते हैं। पिछले 10 दिनों में बच्चों की दो कब्रों से श्वानों ने शव बाहर निकाल लिए और काफी हिस्सा नोंच लिया। मोहम्मद सलीम और नईम ने इन बच्चों के अधूरे शवों को फिर से दफनाया। इसके अलावा एक बड़ी कब्र में शव दफनाने के दूसरे दिन ही आदमखोर श्वानों ने सुरंग बना ली और अंदर पहुंच गए। जागरूक लोगों ने श्वान को बाहर निकालकर बड़ा पत्थर लगाकर सुरंग बंद की। स्थानीय लोगों ने बताया कि कब्रिस्तान के बीचों बीच से एक नाला गुजर रहा है। कई जगह से इस नाले की दीवार टूटी हुई है। मुख्य रूप से श्वान यहीं से आते-जाते हैं।
विधायक कोष से हुए 18 लाख खर्च, फिर भी श्वानों की आवाजाही नहीं रोकी

पूरे मामले में खास बात ये है कि पिछले साल ही क्षेत्रीय विधायक अमीन कागजी ने इस कब्रिस्तान में करीब 18 लाख रूपए के विकास कार्य कराए। ऐसे में बड़ा सवाल ये खड़ा होता है कि लाखों रूपए खर्च करने के दौरान नाले की टूटी दीवार को ठीक क्यों नहीं कराया गया, जबकि इसी जगह से श्वान और सूअर कब्रिस्तान में आ रहे हैं। कब्रिस्तान कमेटी के मेंबर फिरोजुद्दीन ने बताया कि हमें वक्फ बोर्ड केवल 5 हजार रूपए महीना देता है। ऐसे में कब्रिस्तान की ठीक प्रकार से सुरक्षा नहीं हो पा रही है।
photo_2022-01-12_23-02-14.jpgहमारी टीम के युवा इनदिनों नियमित कब्रिस्तान आते हैं। पिछले 10 दिनों में श्वानों द्वारा निकाले गए दो बच्चों के शवों को हमने फिर से दफनाया है। इसके अलावा एक ताजा कब्र से श्वान को निकालकर पत्थर लगाकर सुरंग को बंद किया है। हमारी विनती करने पर पिछले दिनों मात्र एक बार श्वान पकड़ने की गाड़ी आई और खानापूर्ति कर चली गई।
मोहम्मद नईम, स्थानीय युवा


इस कब्रिस्तान के हालात बदतर हो गए हैं, श्वान मरे हुए इंसानों को भोजन बना रहे हैं। नरकंकाल और शव के अंग नजर आना यहां आम होने लगा है। कब्रिस्तान कमेटी मेंबर यहां की सुध ही नहीं लेते। यदि नाले की दीवार बना दी जाए तो 90 प्रतिशत श्वानों की आवाजाही बंद हो जाएगी। वक्फ बोर्ड हर महीने यहां सुरक्षा के नाम पर पैसा देता है, इसके बावजूद यहां कोई सुरक्षाकर्मी नहीं है।
शब्बीर खान
महामंत्री, वक्फ संपत्ति संरक्षण विंग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

विराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, भावुक मन से बोली ये बातAssembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारभारतीय कार बाजार में इन फीचर के बिना नहीं बिकेगी कोई भी नई गाड़ी, सरकार ने लागू किए नए नियमUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंबेमिसाल करियर, हैरान कर देने वाला है विराट कोहली का टेस्ट कप्तानी रिकॉर्डYouTube ला रहा नया फीचर: अब बिना बिना डाटा के हर सप्ताह खुद डाउनलोड होंगे 20 वीडियोSBI ने बढ़ाई फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दर, जानिए क्या है नई दरें
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.