निगम का बिजली बचत का सपना हुआ चूर, यह वजह आई सामने

शहर को एलईडी लाइट्स से जगमग करने में रोड़ा बना फेजवायर

By: SAVITA VYAS

Published: 03 Mar 2021, 04:26 PM IST

जयपुर। नगर निगम की ओर से बिजली की बचत के लिए सोडियम लाइटों को एलईडी में बदलने का काम लंबे समय बाद भी पूरा नहीं हो पाया है। वर्तमान समय की बात की जाए तो शहरभर में अभी तक अस्सी फीसदी सोडियम लाइट्स को एलईडी लाइट्स में बदला जा सका है। काम पूरा नहीं होने के पीछे शहर के कई हिस्सों में फेजवायर का नहीं होना बताया जा रहा है। इससे नगर निगम पर बिजली बिल का भार लगातार बना हुआ है। लाइट्स बदलने का काम दो कंपनियों को सौंपा गया है।

दस महीने में भी नहीं हुआ काम पूरा
निगम के बिजली शाखा के अधिकारियों के मुताबिक ग्रेटर नगर निगम क्षेत्र के अलावा हैरिटेज निगम में 2.30 लाख सोडियम लाइट्स को एलइडी लाइट्स में बदलना था। अभी तक 10 महीने में करीब 2 लाख लाइट्स ही बदली जा सकी है। फिलहाल काम जारी है। बिजली बिल के पेटे निगम को काफी नुकसान हो रहा है। लाइट्स बदलने का काम ईईएसएल और ईएससीओ कम्पनी को दिया गया है। यह कार्य निगम की ओर से बिजली सेविंग मोड़ पर करवाया जा रहा है। इस काम में कंपनियों का बिजली बिल के बजट का 69.63 प्रतिशत हिस्सा होगा, बाकी खर्चा निगम का होगा।

निगम को होगा फायदा
जोनों से वास्तविक डिमांड लेकर हाइमास्ट लाइटों के लिए मुख्यालय स्तर पर वार्षिक दर संविदा की जाएगी। इसके अतिरिक्त जिन क्षेत्रों में फेजवायर नहीं डाला गया है। निगम अधिकारियों ने बताया कि मई तक सभी भुगतान संबंधी मामलों को निपटाने की चुनौती है। सोडियम लाइट्स को एलइडी लाइट्स में बदलने का काम जल्द पूरा होगा। फेज वाइज काम हो रहा है। इससे निगम को लाभ होगा। कुछ इलाकों में फेजवायर नहीं होने के कारण लाइट्स लगाने का काम बाधित हो रहा है।

SAVITA VYAS Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned