Drug smugglers: जरा संभलकर...यहां जगह-जगह छिपा है नशा!

Sangeeta Chaturvedi

Updated: 15 Aug 2019, 02:11:14 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

Drug smugglers: नशा...जीवन और भविष्य के लिए घातक है... ये बात जानते हुए भी बहुत से लोग नशा करते हैं... यही वजह है पूरे देश में मादक पदार्थों की तस्करी होती है.... तस्कर जमकर मादक चीजों की तस्करी करते हैं.. कई बार पुलिस की छापेमारी में बड़ी संख्या में मादक पदार्थ जब्त किए जाते हैं.... हैरानी की बात तो ये है मंदिर के पुजारी भी इसमें शामिल होते हैं.. जोधपुर में कुछ ऐसा ही मामला सामने आया.. .यहां जोधपुर पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल की है... मादक पदार्थ बेचने वालों की धरपकड़ में अनेक जगह छापेमारीके दौरान डोडा पोस्त, अफ ीम का दूध, गांजा और चरस जब्त की गई है.... पुलिस ने मंदिर के पुजारी सहित चार लोगों को गिरफ्तारकिया है... दरअसल शहर में एकाएक लूटपाट की वारदातें होने के बाद हरकत में आई पुलिस कमिश्नरेट के पश्चिमी जिले की पुलिस ने मादक पदार्थ तस्करों के अनेक ठिकानों पर छापेमारी कर तलाशी ली। डोडा पोस्त, अफीम का दूध, गांजा व चरस जब्त कर मंदिर के पुजारी सहित चार व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया गया..... पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) प्रीति चन्द्रा का कहना है कि स्मैक और अन्य मादक पदार्थ बेचने और खरीदने वाले लोगों की पहचान कर संभावित ठिकानों पर पूरे पश्चिमी जिले में छापे मार तलाशी ली गई। अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) कैलाशदान रतनू के निर्देशन में पाल लिंक रोड के पास स्थित राजीव गांधी कॉलोनी, सेक्टर ग्यारह की कच्ची बस्ती, नाले के आस-पास के क्षेत्र में मादक पदार्थ बेचने और खरीदने वालों के ठिकाने की तलाशी ली गई। वहीं, बोरानाडा थाना पुलिस ने भी थार ड्राई पोर्ट के आस-पास तलाशी ली.... बासनी व कुड़ी भगतासनी थाना पुलिस ने संयुक्त रूप से कई जगह छापे मारे। पुलिस कार्रवाई की भनक लगने से कई बदमाश पहले ही गायब हो गए। यहां इस बात का जिक्र करना बेहद जरूरी है कि ये केवल जोधपुर की समस्या नहीं है... नशे की गिरफ्त में देश के कई हिस्से हैं... कुछ इलाके तो नशे से खासे प्रभावित हैं... नेशनल ड्रग डिपेंडेंस ट्रीटमेंट (एनडीडीटीसी) एम्स (2019) की एक रिपोर्ट के आंकड़े चौंकाने वाले हैं... एनडीडीटीसी ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि देश के करीब 16 करोड़ लोग शराब पीते हैं. 2004 से लेकर 2018 तक अफ ीम का इस्तेमाल पांच गुना बढ़ गया है..दुनिया भर में ड्रग्स के इस्तेमाल की तुलनात्मक सूची देखें तो जहां भारत में गांजा (कैनाबिस) से 1.2 प्रतिशत लोग प्रभावित हैं तो वहीं वैश्विक स्तर पर ये आंकड़ा 3.9 प्रतिशत है. नशीले पदार्थों के सेवन के मामले में भारत में अगर आंकड़ा 0.70 प्रतिशत है तो वैश्विक स्तर पर 2.06 प्रतिशत है.एनडीडीटीसी रिपोर्ट के मुताबिक कैनाबिस में भांग, गांजा और चरस का इस्तेमाल किया जा रहा है. सिक्किम और पंजाब राज्य में भांग का उपयोग, राष्ट्रीय औसत से भी तीन गुना ज्यादा है. इसके पिछले सालों में अलावा हेरोइन का इस्तेमाल भी बढ़ा है. 10 साल की उम्र के छोटे बच्चे भी इसका इस्तेमाल कर रहे हैं. महिलाएं भी इससे अछूती नहीं हैं.. रिपोर्ट के अनुसार देश में 90 लाख महिलाएं शराब, 40 लाख महिलाएं कैनाबिस और 20 लाख महिलाएं अफीम का सेवन करती हैं.

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned