अमन-चैन और कोरोना से मुक्ति की मांगी दुआ

रमजान के तीसरे जुमे को घरों में पढ़ी गई नमाज

By: Rajkumar Sharma

Published: 16 May 2020, 10:29 AM IST

जयपुर. रमजान के तीसरे अशरे के बीच माह-ए-रमजान के तीसरे जुमे का रोजा रखा गया। लॉकडाउन के चलते समाजबंधुओं ने घर पर इबादत कर नमाज अदा की। साथ ही मस्जिदों में इमाम की मौजूदगी में नमाज अदा कर अमन चैन और कोरोना से मुक्ति की दुआ की गई। इस दौरान हजरत मौला अली अलैहिस्सलाम की यौमे शहादत पर घरों में नियाज पेश की गई। शिया समुदाय की ओर से भी यौमे शहादत मनाई गई।
संसारचंद्र रोड स्थित दरगाह हजरत मीर कुर्बान अली के सज्जादानशीन डॉ. सय्यद हबीब उर रहमान नियाजी ने कहा कि आखिरी अशरे में एतेकाफ करना पैगंबर-ए-इस्लाम की सुन्नत है। माल की जकात अदा करें, सदका-ए-फित्र दें और गरीबों की ज्यादा से ज्यादा मदद करें, ताकि वह भी ईद की खुशियों में शामिल हो सकें। मुफ्ती हिफ्जुर्रहमान सा दारुलउलुम रजविया ने बताया कि जरूरतमंदों की ज्यादा से ज्यादा मदद करें। घरों में रहकर इबादत करें।
निर्देशों का करें पालन
जौहरी बाजार स्थित जामा मस्जिद के इमाम और खतीब मुफ्ती सैय्यद अमजद अली ने कहा कि रमजान के आखिरी दस दिन जहन्नम से आजादी के हैं। आखिरी अशरे की दस रातों में से कोई एक रात शब-ए-कदर भी है, जिसमें सभी लोग घरों में रहकर रातभर इबादत में मशगूल रहें। ईद का त्यौहार सादगी से मनाए। खरीरदारी के लिए बाहर न जाए। जरूरतमंदों की मदद करें। साथ ही प्रशासन के निर्देशों का पालन करें।

Rajkumar Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned