देश की नहीं राजस्थान की आर्थिक स्थिति खराब

कांग्रेस के प्रदेशव्यापी प्रदर्शन को लेकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि गांधी परिवार को खुश करने के लिए कांग्रेस सोनिया गांधी की सिक्योरिटी का मामला उठा रही है।

जयपुर।

कांग्रेस के प्रदेशव्यापी प्रदर्शन को लेकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि गांधी परिवार को खुश करने के लिए कांग्रेस सोनिया गांधी की सिक्योरिटी का मामला उठा रही है। पूनिया ने कहा कि कांग्रेस सरकार राजस्थान के मुद्दों पर ध्यान नहीं दे रही है। संपूर्ण कर्ज माफी और बेरोजगारी भत्ता जैसे बड़े मुद्दे खड़े हैं और टोल टैक्स लागू करने से भी जनता में आक्रोश है। पूनिया ने दावा किया कि देश की आर्थिक स्थिति में सुधार है, लेकिन राजस्थान की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है।

सरकारी मशीनरी का किया दुरुपयोग
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के दावे पर पर पलटवार किया। पूनिया ने कहा कि कांग्रेस चाहे तो सभी 49 निकायों में कर सकते है। क्योंकि उनकी सरकार है। ये चुनाव अगर पुनर्सीमांकन और प्रत्यक्ष होते तो परिणाम अलग होते। इस दौरान अलवर का उदाहरण भी पूनिया ने दिया।

ना भाजपा हारी और ना कांग्रेस जीती
निकाय चुनाव को लेकर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है। मगर पूनियां ने साफ तौर पर कहा है कि कांग्रेस को जनता का मैंडेट नहीं मिला है। महज 80 हजार वोटों से भाजपा पीछे रही है। कांग्रेस को 36 और भाजपा को 33 प्रतिशत वोट मिले हैं। यानि ना भाजपा हारी है और ना ही कांग्रेस जीती है।

जिम्मेदारी से बचना चाहती है सरकार
सांभर झील में मृत हुए हजारों पक्षियों को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बयान के बाद पूनियां ने कहा कि इस संबंध में पीएम मोदी से चर्चा की जाएगी और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से भी चर्चा करूंगा। मगर केंद्र का जिक्र करके राज्य सरकार अपनी जिम्मेदारी से बचने का प्रयास कर रही है।

सीएम के बयान पर पलटवार
बीएचयू प्रकरण पर पूनियां ने पलटवार किया। उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी की पहल पर एपीजे कलाम को लोकतंत्र का मुखिया बनाया गया है। इस तरह का एपीजमेंट कतई नहीं है। जो काबिल देशभक्त मुलसलमान जो भारत में जन्मा और वंदेमातरम के नारे लगता है और भारतीयता से ताल्लुक रखता है, उसके बारे तममें कोई मतभेद नहीं है। उनकी अपनी प्रतिभा है। बहुत सारे इंजीनियर, वैज्ञानिक, चिकित्सक राजनेता और बहत सारे खिलाड़ी मुसलमान हैं। एेसा होता तो आरिफ मोहम्मद खान केरल के राज्यपाल नहीं होते।

Umesh Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned