संगठित अपराधों के प्रति प्रभावी कार्रवाई जरूरी- डीजीपी

डीजीपी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस से ली समीक्षा बैठक

By: Lalit Tiwari

Published: 11 Jun 2021, 10:12 PM IST

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से समीक्षा बैठक लेने के बाद शुक्रवार को पुलिस मुख्यालय में डीजीपी एम.एल.लाठर ने सभी रेंज आईजी व एसपी की वर्चुअल बैठक आयोजित की। बैठक में कोविड-19 के दौरान पुलिस कर्मियों द्वारा किए गए अच्छे कार्यों की सराहना की। डीजीपी ने अपराध होने के मूल कारणों का पता लगाकर उन कारणों का समाधान के प्रयास करने एवं प्रीवेंटिव एक्शन लेकर क्राइम कंट्रोल करने की आवश्यकता जताई। उन्होंने कहा कि घरेलू या निजी मामलों में विवाद उत्पन्न होती ही संबंधित पक्षो को पाबंद कर प्रिवेंशन एक्शन लिया जाए। जिन क्षेत्रों में फायर आर्म्स यूज हो रहे हैं, उस एरिया में फायर आर्म्स कंट्रोल के लिए आर्म्स एक्ट के तहत प्रभावी कार्रवाई की जाए।

संगठित अपराधों के प्रति प्रभावी कार्रवाई हो-
डीजीपी ने कहा कि इस वर्ष पुलिस प्राथमिकताओं में संगठित अपराधों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई करने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने संगठित अपराधों की प्रभावी मानिटरिंग कर उनकी रोकथाम के निर्देश दिए।
उन्होंने फरार अपराधियों के बारे में प्रभावी आसूचना प्राप्त करने के लिये सभी रेंज आईजी ओर एसपी को फरार अपराधियों पर इनाम घोषित करने के निर्देश दिए। उन्होंने जमानत पर चल रहे लेकिन सक्रिय अपराधियों को चिन्हित कर उनकी जमानत खारिज कराने की कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए। इसके साथ ही अंडर ट्रायल क्रिमिनल्स को मॉनिटर करने और उन्हें केस ऑफिसर स्कीम में लेकर जल्द से जल्द सजा दिलवाने के प्रयास करने के भी निर्देश दिए।

क्रिमिनल्स का विस्तृत डोजियर तैयार करने के निर्देश-
लाठर ने बताया कि पुलिस थानों में अब तक 605 स्वागत कक्ष बनाने की मंजूरी मिल चुकी है। उन्होंने सभी जिला पुलिस अधीक्षकों को उनके जिलों के थानों में स्वीकृत स्वागत कक्ष निर्माण कार्य जल्द शुरु करने के निर्देश दिए। उन्होंने इन स्वागत कक्ष पर ड्यूटी पर तैनात किए जाने वाले पुलिसकर्मियों के सॉफ्ट स्किल डेवलपमेंट पर भी ध्यान देने की आवश्यकता बताई।

अवैध फायर आर्म्स के 352 मामले दर्ज, 340 जने गिरफ्तार
अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस अपराध डॉ रवि प्रकाश मेहरडा ने वीसी के दौरान बताया कि इस वर्ष की पहली तिमाही में पुलिस के द्वारा चैन स्नैचिंग, मोबाइल लूट, साईबर ठग, मादक पदार्थ की तस्करी, अवैध खनन,अवैध शराब, अवैध हथियार, चौथ वसूली भूमाफिया इत्यादि के कुल 328 क्रिमिनल चिन्हित कर उनके विरूद्ध 79 प्रकरण दर्ज किए गए हैं। पिछले दो महीने में संचालितअपराध नियंत्रण के विशेष अभियान में अवैध फायर आर्म्स के 352 प्रकरण दर्ज किये गए और 340 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया।

Lalit Tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned