scriptElectricity current in Rajasthan, Consumers will be upset | राजस्थान में बिजली का करंट, उपभोक्ताओं पर 550 करोड़ रुपए का भार | Patrika News

राजस्थान में बिजली का करंट, उपभोक्ताओं पर 550 करोड़ रुपए का भार

दिवाली निकलते ही बिजली कम्पनियों ने राजस्थान से लाखों उपभोक्ताओं को बिजली का करंट दिया है। राजस्थान में पिछले तीन माह बिजली संकट के दौरान जमकर बिजली कटौती करके उपभोक्ताओं को भारी परेशानी में डाला गया और अब उपभोक्ताओं की जेब पर बिजली बिल का भार डाला गया है।

जयपुर

Updated: November 15, 2021 02:02:13 pm

जयपुर। दिवाली निकलते ही बिजली कम्पनियों ने राजस्थान से लाखों उपभोक्ताओं को बिजली का करंट दिया है। राजस्थान में पिछले तीन माह बिजली संकट के दौरान जमकर बिजली कटौती करके उपभोक्ताओं को भारी परेशानी में डाला गया और अब उपभोक्ताओं की जेब पर बिजली बिल का भार डाला गया है। राजस्थान में फ्यूल सरचार्ज के नाम पर बिजली महंगी हो गई है और अगले तीन माह तक तक प्रति यूनिट 33 पैसे वसूलने की तैयारी हो चुकी है। ऐसे में उपभोक्ताओं पर 550 करोड़ रुपए का भार पड़ेगा और यह राशि अगले तीन माह के दौरान वसूली जाएगी। उधर, आमजन का कहना है कि दिवाली निकलते ही बिजली कम्पनियां लोगों का दिवाला निकालने पर तुल गई हैं।
electricity.jpg
खरीदे निगम और भुगते उपभोक्ता

राजस्थान में बिजली उत्पादन कम्पनियां जब कभी महंगा कोयला खरीदती है तो उसका खामियाजा उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ता है। इस बार वसूले जा रहे फ्यूल सरचार्ज में भी ऐेसा ही हुआ है। विद्युत वितरण निगम के आला अधिकारियों का कहना है कि वर्ष 2021 के दौरान जनरेशन कम्पनियों ने तय दाम से अधिक कीमतों पर कोयले की खरीद की थी। उसी राशि को उपभोक्ताओं से वसूला जा रहा है। अधिकारियों का तर्क है कि महंगा कोयला उपभोक्ताओं को बिजली उपलब्ध कराने के लिए ही खरीदा गया था और अब वसूली भी उन्हीं से की जा रही है। इस वसूली को फ्यूल सरचार्ज के रूप में वसूला जाता रहा है।
अगले तीन माह तक वसूली

राजस्थान में कोयला संकट के दौरान बिजली की डिमांड और आपूर्ति में बड़ा अंतर होने के बाद बिजली कम्पनियों ने उपभोक्ताओं को राहत की बजाय हाथ खड़े करते हुए ग्रामीण इलाकों में जमकर बिजली कटौती की थी और कहा था कि हम तो उपभोक्ताओं को राहत देना चाहते हैं जबकि केन्द्र सरकार से कोयले की रैक नहीं मिल रही है। अब बिजली का संंकट खत्म हुआ तो बिजली कम्पनियों ने उपभोक्ताओं पर दूसरे तरीके से मार डाली है। पिछले वित्तीय वर्ष की तिमाही (अप्रेल, मई व जून 2021) का फ्यूल सरचार्ज वसूला जाएगा और अगले माह से ही यह राशि उपभोक्ता के बिल में जुड़कर आएगी।
10 साल से जारी है वसूली

राजस्थान में फ्यूल सरचार्ज की वसूली 10 साल से की जा रही है। जब भी जनरेशन कम्पनियां तय कीमतों से ज्यादा में कोयले की खरद करती है तो उस राशि का बोझ वितरण कम्पनियां उपभोक्ताओं पर डाल देती है। इस बार भी यही हो रहा है। कहा तो यह भी जा रहा है कि पिछले तीन माह के दौरान प्रदेश में कोयले का संकट चला और इस दौरान भी महंगा कोयला खरीदा गया, उसका भार भी उपभोक्ताओं पर डाला जाएगा। अब उपभोक्ता को इंतजार करना होगा कि नया भार कब तक उसके बिल में जोड़ा जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.