बिजली टेरिफ बढ़ाया: लघु उद्योगों पर दोहरी मार

फिक्स चार्ज में भी वृद्धि

जयपुर. एक तरफ तो राज्य सरकार लघु उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए बड़े-बड़े दावे कर रही है, वहीं दूसरी मंदी की मार झेल रहे लघु उद्योगों के लिए बिजली टेरिफ में वृद्धि कर दी गई है, जबकि बड़े उद्योगों को बिजली टेरिफ में राहत दी गई। दरअसल विद्युत वितरण निगमों ने एक मेगावाट से ऊपर वाले कनेक्शन के लिए एक रुपए प्रति यूनिट का फायदा देते हुए दरें 6.40 रुपए की है, इस श्रेणी में बड़े उद्योग आते हैं, जबकि 1 मेगावाट से नीचे वाले उद्योगों से 7.40 रुपए प्रति यूनिट वसूले जाएंगे।
विश्वकर्मा आद्योगिक एसोसिएशन के अध्यक्ष ताराचंद चौधरी ने बताया कि सरकार उद्योगो में ही सौतेला व्यवहार कर रही है। इससे आपसी प्रतिस्पर्धा में 1 मेगावाट से कम कनेक्शन वाले उद्योग स्वत: ही बन्द हो जाएंगे। चौधरी ने बताया कि वितरण निगमों ने सभी उद्योगों पर टेरिफ के साथ-साथ फिक्स चार्ज भी 185 रुपए बढ़ाकर 270 रुपए केवीए किया है। इससे कम बिजली की खपत वाले उद्योग को नुकसा होगा, क्योंकि उनकी प्रति यूनिट दर 4 से 7 रुपए तक बढ़ जाएगी। देश में केवल राजस्थान में ही उद्योगों में दो टेरिफ दरें लागू हो रही है। उद्योगों ने हाल ही में हुई परामर्शदात्री समिति की बैठल में इस समस्या से मुख्यमंत्री को अवगत कराया था।

Jagmohan Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned