scriptEmphasis on the inclusion of Ayurvedic diet in the curriculum | आयुर्वेदिक आहार को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर जोर | Patrika News

आयुर्वेदिक आहार को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर जोर

राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान ( National Institute of Ayurveda ) और आयुष मंत्रालय ( Ministry of AYUSH ) ने जयपुर के जवाहर कला केंद्र में तीन दिवसीय आयुष एक्सपो और खाद्य महोत्सव की शुरुआत की। आयुष मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग का कहना है कि आयुर्वेद सिर्फ उपचार की पद्धति नहीं है, बल्कि यह तो एक सदियों पुरानी परंपरा है, जिसका हम सभी ने किसी न किसी रूप में पालन किया है।

जयपुर

Published: March 11, 2022 05:55:50 pm

राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान और आयुष मंत्रालय ने जयपुर के जवाहर कला केंद्र में तीन दिवसीय आयुष एक्सपो और खाद्य महोत्सव की शुरुआत की। आयुष मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग का कहना है कि आयुर्वेद सिर्फ उपचार की पद्धति नहीं है, बल्कि यह तो एक सदियों पुरानी परंपरा है, जिसका हम सभी ने किसी न किसी रूप में पालन किया है। हालांकि, समय के साथ-साथ इसका महत्व कम होता दिख रहा है- खासकर आज के युवाओं के बीच, लेकिन इससे आयुर्वेद की उपयोगिता समाप्त नहीं हो जाती। उन्होंने कहा, हमे कक्षा 6 से 12वीं तक के बच्चों के दैनिक जीवन में स्वस्थ खाने की आदतों को बढ़ावा देने के लिए आयुर्वेदिक आहार को पाठ्यक्रम में शामिल करना चाहिए। आयुष मंत्रालय को ग्रामीण स्कूलों में 6 से 9वीं कक्षा तक की लड़कियों के लिए स्वस्थ और पोषणयुक्त आहार को शामिल करने का बीड़ा उठाना चाहिए ताकि उनमें खून की कमी से संबंधित अंतहीन चुनौती का समाधान किया जा सके। सांसद रामचरण बोहरा ने कहा, आयुर्वेद मंत्रालय और राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान ने इस एक्सपो और फूड फेस्टिवल के माध्यम से खान-पान की स्वस्थ आदतों और आयुर्वेद के महत्व को प्रदर्शित किया है। निश्चित तौर पर बड़ी संख्या में लोग इससे लाभान्वित होंगे।
शेफ पंकज भदौरिया ने कहा, ‘आयुर्वेद आधुनिक समाज और पूरी दुनिया के लिए भारत का एक अनूठा उपहार है। हमें अपनी युवा पीढ़ी को स्वस्थ बनाने और उन्हें अपने दैनिक जीवन के अनुकूल बनाने के लिए आयुर्वेद में उल्लेखित खान-पान की आदतों पर गर्व करना चाहिए और उन्हें अपनाना चाहिए। हमारे शास्त्रों में भी कहा गया है कि जैसा खाएं अन्न, वैसा रहे मन। इसलिए यह बेहद जरूरी है कि हम सभी लोगों को आयुर्वेद को अपने जीवन में शामिल करना चाहिए। आयुष एक्सपो का उद्देश्य आयुर्वेद को बढ़ावा देना और कुपोषण से लड़ने में आयुर्वेद की भूमिका, आयुर्वेद आधारित स्टार्टअप के लिए अवसरों को बढ़ावा देने के साथ आयुर्वेद को सभी के लिए सुलभ बनाना है।
आयुर्वेदिक आहार को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर जोर
आयुर्वेदिक आहार को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर जोर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

मुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...जम्मू कश्मीर के बारामूला में आतंकवादियों ने शराब की दुकान पर फेंका ग्रेनेड,3 घायल, 1 की मौतमॉब लिंचिंग : भीड़ ने युवक को पुलिस के सामने पीट पीटकर मार डाला, दूसरी पत्नी से मिलने पहुंचा थादिल्ली के अशोक विहार के बैंक्वेट हॉल में लगी आग, 10 दमकल मौके पर मौजूदभारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगाकर्नाटक के राज्यपाल ने धर्मांतरण विरोधी विधेयक को दी मंजूरी, इस कानून को लागू करने वाला 9वां राज्य बनाSwayamvar Mika Di Vohti : सिंगर मीका का जोधपुर में हो रहा स्वयंवर, भाई दिलर मेहंदी व कॉमेडियन कपिल शर्मा सहित कई सितारे आएIPL 2022 MI vs SRH Live Updates : पावर प्ले में मुंबई ने की शानदार बल्लेबाजी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.