scriptEnvironment will be safe by refurbishment of electronic equipment | Environment: इलेक्ट्रोनिक उपकरणों के नवीनीकरण से पर्यावरण होगा सुरक्षित | Patrika News

Environment: इलेक्ट्रोनिक उपकरणों के नवीनीकरण से पर्यावरण होगा सुरक्षित

आज के जमाने में इलेक्ट्रोनिक सामान ( electronic goods ) का इस्तेमाल और जमाखोरी ( hoarding ) काफी बढ़ गई है। हम वाई-फाई कनेक्टेड रूमबा वैक्युम से लेकर एलेक्सा, गूगल होम और स्मार्ट थर्मोस्टैट्स जैसे घरेलू सहायकों तक, जीवन के लगभग हर पहलू में इलेक्ट्रोनिक उपकरणों ( electronic devices ) पर तेजी से निर्भर हो गए हैं।

जयपुर

Published: January 05, 2022 05:37:51 pm

आज के जमाने में इलेक्ट्रोनिक सामान का इस्तेमाल और जमाखोरी काफी बढ़ गई है। हम वाई-फाई कनेक्टेड रूमबा वैक्युम से लेकर एलेक्सा, गूगल होम और स्मार्ट थर्मोस्टैट्स जैसे घरेलू सहायकों तक, जीवन के लगभग हर पहलू में इलेक्ट्रोनिक उपकरणों पर तेजी से निर्भर हो गए हैं। वायरलेस हेडफोन, स्मार्टवॉच, टैबलेट, वर्चुअल रियलिटी हेंडसेट, स्मार्टफोन जैसे दर्जनों उपकरणों और एक्सेसरीज की मांग भी बढ़ी है। इसके परिणामस्वरूप ऐसी वस्तुओं के उत्पादन के लिए आवश्यक प्राकृतिक संसाधनों पर अधिक दबाव पड़ा है। उद्योग विशेषज्ञ अब सोने, चांदी, जस्ता, इंडियम और गैलियम जैसे प्रमुख तत्वों की कमी के बारे में चिंता व्यक्त करते हैं, कुछ अनुमानों के अनुसार इन तत्वों की कमी आने वाले 50 वर्षो में देखी जाने वाली है। इसके अलावा, इस्तेमाल कर लिए गए और रद्द कर दिए गए इलेक्ट्रोनिक आइटम लैंडफिल में जाते हैं, जिससे पर्यावरण को बहुत नुकसान होता है। इन तथ्यों के प्रकाश में इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का नवीनीकरण और एक वृत्ताकार अर्थव्यवस्था (सर्कुलर इकोनमी) की ओर बढऩा बहुत महत्व रखता है।
रीफर्बिशिंग से तात्पर्य किसी वस्तु के तब तक नवीनीकरण या अद्यतन करने से है जब तक कि वह कार्यात्मक, उपयोग के लिए स्वीकृत और 'एज गुड एज न्यूÓ (अगेन) स्थिति में फिर से बेचने योग्य न हो जाए। जब हम एक नवीनीकृत इलेक्ट्रोनिक वस्तु खरीदते हैं, तो हम उसे लैंडफिल में प्रवेश करने से रोकते हैं, और पर्यावरण पर दबाव कम करते हैं। हाइपर एक्सचेंज (एच एक्स) कोलकाता-स्थित एक फर्म, जिसकी स्थापना 2016 में हुई थी, इस्तेमाल किए गए इलेक्ट्रोनिक सामानों को फिर से तैयार करने और उन्हें सस्ती दरों पर आसानी से उपलब्ध कराने के उद्देश्य से, खरीद (प्रोक्योरमेंट) लास्ट-माइल (अंतिम मील) रिपेयर और बायबैक के दौरान फैराडे और एल्विस जैसे सॉफ्टवेयर में विकास के माध्यम से रिवर्स लॉजिस्टिक्स आपूर्ति श्रृंखला को बदल रही है। एचएक्स सीखने और सुधार के लिए मात्रात्मक और कार्रवाई योग्य प्रतिक्रिया (क्वांटि फाएबल एंड एक्शनेबल फीडबैक) के साथ स्केलेबल और ट्रेस करने योग्य प्रक्रियाओं के निर्माण के लिए मूल्य शृंखला (वैल्यू-चेन)में जुड़ी प्रौद्योगिकियों का लाभ उठाता है।
दीपांजन पुरकायस्थ, (हाइपरएक्सचेंज के सह-संस्थापक और सीईओ) के अनुसार, फैराडे एचएक्स का पेटेंटेड हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर समाधान है, जो दुनिया भर में मैनुअल मोड पर चलने वाली डिवाइस परीक्षण प्रक्रिया को स्वचालित करने में मदद करता है। इससे पहले, उद्योग में गुणवत्ता मानक की कमी थी, जिससे बेचे जा रहे उत्पादों की स्थिति का सही-सही आकलन करना मुश्किल हो गया था। हमने एक गुणवत्ता चार्टर बनाकर इस समस्या का समाधान किया, जो उन परीक्षणों की एक सूची है, जो अनिवार्य हैं और जिन्हें बेचे जाने से पहले नवीनीकृत उत्पादों पर किया जाना है। इस प्रकार, अब उपभोक्ताओं को पता है कि कोई उत्पाद उनके दरवाजे पर डिलीवर होने से पहले कैसा होगा।
वह आगे कहते हैं, नवीनीकरण उद्योग 25 बिलियन डॉलर का बाजार रहा है और 2019 तक 40 फीसदी सीएजीआर से बढ़ा है। कोविड -19 महामारी के बाद, यह 50 फीसदी से अधिक एमओएम (मंथ-ओवर-मंथ) से बढ़ रहा है, और वर्तमान में 100 बिलियन से अधिक है। हालांकि, इस बाजार का 95 फीसदी हिस्सा असंगठित है और इसमें तकनीकी फोकस का अभाव है। एचएक्स खराब या बिना गुणवत्ता परीक्षण और कीमत, प्रक्रियाओं और गुणवत्ता के गैर-मानकीकरण जैसी अक्षमताओं को समाप्त करके एक तकनीक-आधारित विश्वसनीय ब्रांड बनाने के लिए केंद्रित और प्रतिबद्ध है। इसके लिए, हमने फैराडे का निर्माण किया, एक पेटेंट हार्डवेयर + सॉफ्टवेयर समाधान जो एआई, आईओटी और उन्नत कैमरा तकनीक की शक्ति का लाभ उठाता है, जो डिवाइस परीक्षण प्रक्रिया को स्वचालित करने में मदद करता है।
एचएक्स ने हाइपरलोकल रीफर्बिशमेंट सेंटरों द्वारा संचालित अंतिम मील (लास्ट-माइल ) आपूर्ति के साथ ऑनलाइन और ऑफलाइन वितरण को बढ़ाया है। प्रत्येक एचएक्स उत्पाद 12-महीने की डोरस्टेप वारंटी, 7-दिन की चिंता-मुक्तरिटर्न, 9-महीने की एश्योर्ड बायबैक के साथ 'एज गुड एज न्यूÓ (अगेन) स्थिति में आता है। इसके अलावा, एचएक्स की जलवायु प्रतिबद्धता के रूप में कंपनी बेचे जाने वाले प्रत्येक उत्पाद के लिए एक पेड़ लगाती हैं।
Environment: इलेक्ट्रोनिक उपकरणों के नवीनीकरण से पर्यावरण होगा सुरक्षित
Environment: इलेक्ट्रोनिक उपकरणों के नवीनीकरण से पर्यावरण होगा सुरक्षित

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: महान हस्तियों के इतिहास को सीमित करने की गलतियों को सुधार रहा देश: पीएम मोदीभारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्र सरकारUP Assembly Elections 2022 : पलायन और अपराध खत्म अब कानून का राज,चुनाव बदलेगा देश का भाग्य - गृहमंत्री शाहराजपथ पर पहली बार 75 एयरक्राफ्ट और 17 जगुआर का शौर्य प्रदर्शन, देखें फुल ड्रेस रिहर्सल का वीडियोIND vs SA: बेकार गया दीपक चाहर का संघर्ष, रोमांचक मुकाबले में 4 रन से हारी टीम इंडियाJEE Mains 2022: कब शुरू होंगे रजिस्ट्रेशन, चेक करें सब डिटेलCovid-19 Update: देश में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 3.33 लाख नए मामले, 525 मरीजों की गई जानअब अहमदाबाद में खेले जाएंगे भारत-वेस्टइंडीज की वन डे सीरीज के सभी मैच
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.