प​रीक्षाओं से पहले माध्यमिक और सीबीएसई बोर्ड की उच्च न्यायालय में परीक्षा

बिना तैयारी के बोर्ड परीक्षा करवाने को बताया न्यायिक अवमानना

बोर्ड परीक्षा स्थगित करने के लिए याचिका

By: KAMLESH AGARWAL

Published: 17 Jun 2020, 10:19 PM IST

जयपुर।

बिना तैयारियों के बोर्ड परीक्षा करवाने को न्यायिक अवमानना बताते हुए याचिका दायर की है। जिस पर आज राजस्थान उच्च न्यायालय में सुनवाई होगी। याचिकाकर्ता पब्लिक अगेंस्ट करप्शन संस्था ने मुख्य सचिव डीबी गुप्ता, केंद्रीय शिक्षा बोर्ड सचिव अनुराग त्रिपाठी और राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, के सचिव अरविंद कुमार सेंगवा को अवमानना नोटिस भी भेजा था। अवमानना याचिका दायर करने वाली संस्था के अधिवक्ता पूनमचंद भंडारी ने बताया कि 29 मई को राजस्थान उच्च न्यायालय ने दसवीं व बारहवीं परीक्षाओं को रद्द करने के लिए दायर याचिका को निस्तारित करते हुए कहा था कि भारत सरकार की गाइडलाइन्स की पूर्ण पालना करते हुए परीक्षा करवाई जाए। जिसके अनुसार स्पेशल बस चलाने, थर्मल स्केनर द्वारा जांच , मास्क और सैनेटाइजर का उचित इंतजाम किया जाना था लेकिन अब सुविधाओं के बिना परीक्षा करवाई जा रही है। अवमानना याचिका अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई और परीक्षा रद्द करने की गुहार की है।

बोर्ड परीक्षा स्थगित करने के लिए याचिका
राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करने के लिए राजस्थान प्राइवेट एजुकेशन एंड वेलफेयर सोसाइटी ने जनहित याचिका दायर की है। याचिका पर आज ही न्यायाधीश पंकज भंडारी और न्यायाधीश एनएस ढढ्ढा की खंडपीठ सुनवाई करेगी।
संस्था के अधिवक्ता शैलेशनाथ सिंह नें बताया की शिक्षा विभाग राज्य में बढ़ते कोराना संक्रमण के बीच परीक्षा आयोजित कर रहा हैं। परीक्षार्थी और उनके अभिभावकों में भय है इसी के साथ परीक्षा के साथ अब उनमें कोरोना भी मानसिक स्ट्रेस का कारण बन गया है। छात्रों को परीक्षा में कम से कम 4 घंटे मास्क लगाना होगा और परीक्षा कक्ष में 42 डिग्री तापमान में मास्क लगाकर परीक्षा देने से विद्यार्थी की गुणवत्ता पर भी भारी असर पड़ेगा। अब कोरोना के संक्रमित मरीज़ों में कोई लक्षण नहीं आ रहे हैं। इसलिए शिक्षा विभाग के लिए पहले से संक्रमित बालकों की पहचान करना भी नामुमकिन होगा।

KAMLESH AGARWAL Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned