खेती में रुझान बढ़ाने की कवायद,छात्राओं को मिलेगी स्कॉलरशिप


कृषि विषय लेकर पढऩे वाली छात्राओं को दी जाएगी छात्रवृत्ति
31 दिसंबर तक करवाना होगा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन
राज किसान पोर्टल पर करवाना होगा रजिस्ट्रेशन

By: Rakhi Hajela

Published: 15 Nov 2020, 05:40 PM IST

प्रदेश में बालिका शिक्षा और महिला किसानों का खेती में रुझान बढ़ाने के लिए कृषि विभाग ने नई कवायद शुरू की है। कृषि संकाय विषय को लेकर पढ़ाई करने वाली बेटियों को इस बार ऑनलाइन छात्रवृत्ति मिलेगी। ऑनलाइन छात्रवृत्ति के लिए बेटियों को राज किसान पोर्टल पर 31 दिसंबर तक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इस स्कॉलरशिप के लिए छात्राओं को अपनी अंकतालिका तथा राजस्थान के मूल निवासी होने का प्रमाण.पत्र अपलोड करना होगा। छात्रा जिस कक्षा में अध्ययन कर रही है उसका प्रमाणपत्र संस्थान की ओर से दिया जाएगा। गौरतलब है कि विभाग ने पहली बार ऑनलाइन आवेदन मांगे जबकि हर साल वर्ष ऑफलाइन आवेदन ही लिए जाते हैं। जबकि हर वर्ष कृषि संकाय के स्कूल व कॉलेज की 700 से अधिक बेटियों को 60 लाख रुपए की छात्रवृत्ति की राशि दी जाती है।

संस्था प्रधान को देना होगा ऑनलाइन प्रमाण पत्र
राज किसान पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करने के बाद स्कूल और कॉलेज छात्रा के फॉर्म का भौतिक सत्यापन करेगा। इसके बाद इस फॉर्म को उप निदेशक कृषि को भेजा जाएगा। वहीं संस्था प्रधान को एक प्रमाण पत्र देना होगा कि जिसमें जानकारी देनी होगी कि छात्रा किस कक्षा में अध्ययनरत है तथा वह न तो फेल हुई है और ना ही इसे इसी कक्षा में फिर से एडमिशन लिया है। सत्र के बीच में स्कूल, कॉलेज या विवि छोड़ कर जाने वाली छात्राओं को स्कॉलरशिप नहीं दी जाएगी।
यह है प्रोत्साहन राशि
कृषि विषय लेकर सीनियर सैकेंडरी में अध्ययनरत छात्राओं को 5 हजार रुपए प्रति वर्ष की दर से 11वीं और 12वीं कक्षा के लिए।
कृषि स्नातक शिक्षा जैसे उद्यानिकी, डेयरी, कृषि अभियांत्रिकी, खाद्य प्रसंस्करण आदि में अध्ययनरत छात्राओं को 12 हजार रुपए प्रति वर्ष की दर से चार वर्षीय कोर्स के लिए।
श्री कर्ण नरेंद्र व्यवसाय प्रबंधन महाविद्यालय जोबनेर में बीएसएसी कृषि और एमबीए एग्री बिजनेस में अध्ययनत छात्राओं को भी प्रति वर्ष 12 हजार रुपए, पांच साल के कोर्स के लिए ।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned