किसानों ने की गिरदावरी कर मुआवजा दिए जाने की मांग

बारिश और ओलावृष्टि से गेंहू और चने की फसल को भारी नुकसान
पांच महीने की मेहनत पर फिरा पानी

By: Rakhi Hajela

Published: 27 Mar 2020, 05:07 PM IST

प्रदेश में विभिन्न जिलों में हुई बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान हुआ है और अब किसान सरकार ने गिरदावरी करवाने जाने के साथ ही तुरंत मुआवजा दिए जाने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि चने और गेंहू की फसल को भारी नुकसान हुआ है। एेसे में सरकार को तुरंत गिरदावरी करवाकर पीडि़त किसानों को मुआवजा देना चाहिए। चाड़वास और चक चाड़वास की रोही में किसानों की चना, तारामीरा, सरसों और इसबगोल की फसलों को काफी नुकसान पंहुचा है। किसानों ने कहा कि ओलों और बारिश के कारण उनकी पांच महीनों की मेहनत पर पानी फिर गया है। यहां ओलावृष्टि के बाद पटवारी ने फसलों का सर्वे भी किया। वहीं बीदासर,बालेरा, रूपेली, हेमासर, सांडवा, भोमपुरा, बैरासर और आसपास के गांवों में बरसात व ओलावृष्टि से फसलों को काफी नुकसान हुआ। ओलों की वजह से इसबगोल की फसल को काफी नुकसान पहुंचा है। किसानों ने मुआवजा जारी करवाने की मांग की है।

सिद्धमुख क्षेत्र में लगातार बदलते मौसम के कारण पकी पकाई फसलों को काफी नुकसान पहुंचा है। किसानों ने बताया कि आसपास के क्षेत्रों में 52 हजार बीघा भूमि में बोई चने की फसल अधिकतर खराब हो गई हैं। किसानों ने सरकार से खराब हुई फसलों का आकलन कर मुआवजा दिलाने की मांग की है। बीरमाना और आसपास के क्षेत्र में लगातार तीसरे दिन भी बरसात का दौर जारी है। तीन दिन से हो रही बरसात ने किसानों को सकते में डाल दिया है। किसानों का कहना है कि लगातार बदल रहे मौसम के कारण बारिश से रबी की फसल खराब हो रही है। इसके साथ ही जौ की कटाई भी चल रही है वह भी बरसात से प्रभावित हो रही है। एक ऊपर से कोरोना महामारी चल रही और अब मौसम भी किसानों का साथ नहीं दे रहा है। ऐसे में पकी पकाई फसल भी खराब हो रही है।

अटरू क्षेत्र में बारिश के कारण फसलें खराब हो गई। यहां पूर्व भाजपा मंडल अध्यक्ष ओमप्रकाश नागर ने बताया कि इस बारिश से किसानों की पकी हुई फसल चौपट हो गई हैं। उन्होंने बताया कि गेहूं की फसल आडी पड़ गई है, जिससे लगभग 38 प्रतिशत नुकसान की आशंका है। आडी पड़ी फसल में हार्वेस्टर भी नहीं चल पाएगी। एक ओर बीमा कंपनियां प्रीमियम जमा होने के बावजूद भी बीमा क्लेम नहीं दे रही हैं। वहीं प्रकृति भी किसानों पर कहर बरपा रही है। उन्होंने केंद्र व राज्य सरकार से किसानों की खराब हुई फसलों का बीमा क्लेम दिलाने की मांग की है।


छबड़ा क्षेत्र में आंधी से अफीम की फसल को भी व्यापक नुकसान हुआ है। किसानों ने कहा अफीम की फसल आड़ी पड़ गई। किसान चीरा नहीं लगा रहे और खेतों में मवेशी घुस कर फसल में नुकसान कर रहे हैं। किसानों सहित मीणा छात्र संगठन अध्यक्ष सुनील मीणा ने जिला नारकोटिक्स ब्यूरो कोटा को पत्र लिख कर फसल हंकवाने की मांग की ।


भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉक्टर सतीश पूनियां ने मौसम की मार झेल रहे किसानों के फसल खराबे की विशेष गिरदावरी करने की मांग की है। पूनियां ने एक ट्वीट के जरिए किसानों की इस समस्या को उठाया है। पूनियां ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय कृषि मंत्री के साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री को यह ट्वीट टैग किया है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि इस बरसात से किसानों पर भारी मार पड़ी है और उनकी फसलों को भारी नुकसान हुआ है ऐसे में प्रदेश में तत्काल विशेष गिरदावरी कराकर एसडीआरएफ से मुआवजा घोषित किया जाना चाहिए।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned