scriptFarmers' feel good, price of crops above MSP | Agricultural commodities: किसानों की बल्ले-बल्ले, एमएसपी से ऊपर हुई फसलों की कीमत | Patrika News

Agricultural commodities: किसानों की बल्ले-बल्ले, एमएसपी से ऊपर हुई फसलों की कीमत

काफी समय बाद किसानों को उनकी मेहन्त का पूरा फल मिल रहा है। कृषि जिंसों में सामान्य तेजी के कारण 24 जिंसों की कीमत एमएसपी ( agricultural commodities ) से ऊपर चल रही है, जिनके लिए केंद्र न्यूनतम समर्थन मूल्य (minimum support prices) की घोषणा करता है। कीमत में उछाल के लिहाज से यह स्थिति लंबे वक्त बाद नजर आ रही है।

जयपुर

Published: March 21, 2022 11:51:10 am

काफी समय बाद किसानों को उनकी मेहन्त का पूरा फल मिल रहा है। कृषि जिंसों में सामान्य तेजी के कारण 24 जिंसों की कीमत एमएसपी से ऊपर चल रही है, जिनके लिए केंद्र न्यूनतम समर्थन मूल्य (एसएसपी) की घोषणा करता है। कीमत में उछाल के लिहाज से यह स्थिति लंबे वक्त बाद नजर आ रही है। हालांकि इस तेजी के माहौल में कुछ दलहन के भाव कमजोर बने हुए है। फसलों के दाम में आए इस उछाल से विशेष तौर पर ऐसे किसानों को खुशी मिली है, जिनके पास अभी भी पिछली खरीफ फसल का भंडार है या फिर रबी की फसल की कटाई कर रहे हैं। रबी सीजन की दो सबसे बड़ी फसलें सरसों और गेहूं की कीमत एमएसपी से ऊपर बनी हुई है, लेकिन देश में दलहनों में सबसे बड़ी फसल चना की कीमत नीचे बोली जा रही है।
रूस-यूक्रेन संकट के कारण निर्यात मांग बढ़ने से पिछले कुछ हफ्तों से देश में भर में गेहूं के दाम बढ़े हुए हैं। बजाार सूत्रों का कहना है कि अधिकांश जगहों पर गेहूं की बिक्री 2300-2500 रुपए प्रति क्विंटल हो रही थी, जबकि गेहूं का एमएसपी 2015 रुपए है। गेहूं उत्पादक सभी देशों में भारतीय गेहूं सबसे सस्ता है और अगले कुछ महीने तक वैश्विक बाजारों में यूक्रेन और रूस की अनुपस्थिति के कारण भारतीय व्यापारियों के लिए मौजूदा और अगले वित्त वर्ष में भी रिकॉर्ड मात्रा में गेहूं निर्यात करने का अच्छा अवसर है। सरसों की कीमत एमएसपी से काफी ऊपर बनी हुई है जिसकी प्रमुख वजह वैश्विक खाद्य तेल बाजारों में नजर आ रही तेजी है। यह तेजी रूस-यूक्रेन संकट की वजह से और बढ़ गई है।
व्यापारिक आंकड़ों से पता चलता है कि जयपुर में सरसों 7000-7100 रुपए प्रति क्विंटल पर बिक रही है, जो कि 5050 रुपए प्रति क्विंटल के एमएसपी से 40 फीसदी अधिक है। भरतपुर में सरसों 6600 रुपए प्रति क्विंटल पर बिक रही है। चौहान ने कहा कि वैश्विक कारणों से सरसों की कीमत एमएसपी से ऊपर बने रहने के आसार है, लेकिन आवक बढ़ने पर दाम में मामूली कमी आ सकती है। 2021-22 में सरसों का उत्पादन 1.149 करोड़ टन रहने का अनुमान है जो कि पिछले वर्ष से 12.54 फीसदी अधिक है।
Agricultural commodities: किसानों की बल्ले-बल्ले, एमएसपी से ऊपर हुई फसलों की कीमत
Agricultural commodities: किसानों की बल्ले-बल्ले, एमएसपी से ऊपर हुई फसलों की कीमत

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

द्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेRajasthan: एंटी करप्शन ब्यूरो की सक्रियता से टेंशन में Gehlot Govt, अब केंद्र की तरह जांच से पहले लेनी होगी अनुमतिVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्ममां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफदिल्ली में डबल मर्डर से सनसनी! एक की चाकू से गोदकर हत्या, दूसरे को गोली मारीRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चEncounter In Ghaziabad: बदमाशों पर कहर बनकर टूटी पुलिस, एक रात में दो इनामी अभियुक्तों को किया ढेरपाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने अलापा कश्मीर राग कहा- शांति सुनिश्चित करने के लिए धारा 370 को करें बहाल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.