भाजपा-कांग्रेस में टिकट का घमासान, कार्यकर्ता हो रहे हैरान-परेशान

प्रदेश के तीन बड़े शहर जयपुर, जोधपुर और कोटा में नगर निगम चुनाव का बिगुल बज चुका है। कोविड की वजह से चुनाव का शोर तो नजर नहीं आ रहा, लेकिन टिकट चयन को लेकर पार्टियों के भीतर घमासान मचा हुआ है।

By: Umesh Sharma

Published: 18 Oct 2020, 05:31 PM IST

जयपुर।

प्रदेश के तीन बड़े शहर जयपुर, जोधपुर और कोटा में नगर निगम चुनाव का बिगुल बज चुका है। कोविड की वजह से चुनाव का शोर तो नजर नहीं आ रहा, लेकिन टिकट चयन को लेकर पार्टियों के भीतर घमासान मचा हुआ है। संगठन कह रहा है हमारे लोगों को टिकट दो तो विधायक कह रहे हैं प्रत्याशी हमारी तरफ का होना चाहिए। इसी उधेड़बुन की वजह से अभी तक दोनों ही पार्टियां प्रत्याशियों का चयन नहीं कर पाई हैं और शहर में चुनाव प्रचार शुरू नहीं हो पाया है।

कांग्रेस की बात की जाए तो नेताओं ने अपने हिसाब से शहरों का परिसीमन करवा दिया, ऐसा आरोप भाजपा लगा रही है। इससे भी बात नहीं बनी तो दो नगर निगम भी बनवा लिए। मगर अब भी टिकटों को लेकर नेता आपस में उलझते नजर आ रहे हैं। पार्टी ने विधायकों ने पैनल मांगे तो विधायकों ने सीधे सिम्बल मांग डाले। ऐसे में अभी तक प्रत्याशियों का चयन नहीं हो पाया है। रविवार को भी दिनभर बैठकों के दौर चलते रहे, लेकिन शाम तक कोई परिणाम नहीं निकल पाया। ऐसे में टिकटार्थियों की धड़कने तेज हो रही हैं।

भाजपा में अंदरखाने उबाल

भाजपा की बात की जाए तो प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां जिस तरह से बयान दे रहे हैं, उससे ऐसा लग रहा है कि पार्टी में कोई परेशानी नहीं है, लेकिन अंदरखाने उबाल यहां भी कम नहीं है। यहां भी संगठन नेताओं और विधायकों के बीच टिकटों को लेकर तनातनी है। दोनों ही अपने लोगों को उपकृत करने में लगे हैं। पार्टी मुख्यालय पर रविवार को दिनभर बैठकों के दौर चले। बताया जा रहा है कि पार्टी ने बगावत करने वाले पार्षदों को दोबारा मैदान में उतारने से साफ मना कर दिया है। इन पार्षदों के विधायकों को भी टिकट में तवज्जों नहीं दी जा रही है। यही वजह है कि पार्टी अभी तक प्रत्याशियों का चयन नहीं कर पाई है। टिकटों को लेकर जो थ्री लेयर सिस्टम डवलप किया गया था, वो भी फेल होता नजर आ रहा है।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned