पांच दिवसीय फैकल्टी डवलपमेंट प्रोग्राम का शुभारम्भ

एसकेआईटी में पांच दिवसीय फैकल्टी
डवलपमेंट प्रोग्राम का शुभारम्भ

By: Rakhi Hajela

Published: 07 Sep 2020, 07:13 PM IST

स्वामी केशवानंद इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट एंड ग्रामोत्थान में सोमवार को इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट की ओर से पांच दिवसीय फैकल्टी डवलपमेंट प्रोग्राम का शुभारम्भ हुआ। हरित ऊर्जा: भविष्य की ऊर्जा विषय पर आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आरटीयूए कोटा के वाइस चांसलर डॉक्टर आरए गुप्ता थे। इस कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि आरटीयू, कोटा के डॉक्टर धीरेन्द्र माथुर आईआईटी बीएचयू, वाराणसी के पूर्व निदेशक डॉक्टर एस एन उपाध्याय थे। एसकेआईटी के प्रोफेसर रमेशकुमार पचार ने सभी गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया और कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि यह एफडीपी हरित ऊर्जा के क्षेत्र में गहरी अंतर्दृष्टि लाएगा। उसके बाद प्रो. एसएल सुराणा निदेशक ने सभी के लिए स्वच्छ और हरित विद्युत ऊर्जा पहुंच के बारे में अपने दृष्टिकोण और मिशन को प्रबुद्ध किया। अपने उद्घाटन संबोधन में प्रो. सुराणा ने वर्तमान महामारी की स्थिति में जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने के लिए नवीकरणीय संसाधनों के उपयोग के महत्व पर प्रकाश डालते हुए पारंपरिक उपभोक्ता से हरित उपभोक्ता के लिए हरित शक्ति, सतत विकास और प्रतिमान परिवर्तन के लिए एक आशाजनक दृष्टिकोण पर जोर दिया। श्री मुनीष बिंदलए आरटीयू इवेंट कोऑर्डिनेटर ने हरित ऊर्जा के परिदृश्य पर प्रकाश डाला। उन्होंने हरित ऊर्जा और शिक्षा नीति के माध्यम से पाठ्यक्रम में उनकी भागीदारी के माध्यम से पृथ्वी ग्रह पर नवीन और उत्पादक प्रौद्योगिकियों पर ध्यान केंद्रित किया। प्रोफेसर ;डॉद्ध एसएन उपाध्याय ने प्राचीन उद्धरणों के माध्यम से शिक्षा की विशेषताओं ध् विशेषताओं पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम के पहले दिन के पहले तकनीकी सत्र में डॉक्टर अजय चांडक ने नवीकरणीय ऊर्जा में अनुसंधान और उद्यमिता के अवसरों पर बात की। इस सत्र ने स्थिरता के साथ अक्षय ऊर्जा बेस सिस्टम के माध्यम से ऊर्जा तक पहुंच से संबंधित अनुभव साझा करने पर ध्यान केंद्रित किया। दिन के अगले सत्र में डॉ. एसएन उपाध्याय ने हरित ऊर्जा स्रोत के रूप में बायोमास के तकनीकी पहलुओं पर बातचीत की और बताया कि कैसे तकनीकी सक्षम टिकाऊ वातावरण उपभोक्ता केंद्रित दृष्टिकोण की ओर अधिक प्रभावी हो जाते हैं। जिनेन्द्र राहुल और जितेंद्र सिंह एसकेआईटी संस्थान के इवेंट कॉर्डिनेटर थे। अंत में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष डॉ. धनराज चितारा ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned