लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के संसदीय क्षेत्र में बाढ़, पूरे लवाजमे के साथ लेने पहुंचे राहत कार्य का जायजा

कोटा के कैथून में बाढ़ ( Flood In Kota ) के बाद हाहाकार मच गया। ऐसे में लोकसभा अध्यक्ष ( Loksabha Speaker ) व कोटा बूंदी सांसद ओम बिरला ( Kota Bundi MP Om Birla ) यहां बाढ़ राहत कार्यों का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से लंगर चालू करने की बात कही है।

By: Nidhi Mishra Nidhi Mishra

Updated: 16 Aug 2019, 01:44 PM IST

कोटा। कोटा के कैथून क्षेत्र में आई बाढ़ के बाद ( Flood In Kota ) लोकसभा अध्यक्ष ( Loksabha Speaker ) व कोटा बूंदी सांसद ओम बिरला ( Kota Bundi MP Om Birla ) पूरे लवाजमा के साथ बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा ( Flood Affected Area Visit ) करने पहुंचे। उन्होंने यहां पर बाढ़ राहत कार्यों ( Flood Relief ) का जायजा लिया तथा प्रशासनिक अधिकारियों को बाढ़ पीड़ित लोगों के लिए हर संभव सहायता के निर्देश दिए। उन्होंने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के बाबा लखा सिंह से फोन पर वार्ता कर कैथून कस्बे में लंगर चालू करने की बात की। बाढ़ में फंसे लोगों के लिए प्रशासन द्वारा भी बाढ़ राहत कार्य चलाने के निर्देश दिए। इस दौरान लाडपुरा विधायक कल्पना देवी ( Ladpura MLA Kalpana Devi ) भी दौरे में साथ रहीं।

 

Flood In Kota, Loksabha Speaker Om Birla On Visit

उधर, बूंदी में भी बारिश ( Heavy Rain In Bundi ) से हालात खराब होते जा रहे हैं। यहां मकानों में पानी घुस आया है। गांव के लोग अब यहां से अपने जानवरों को निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहे हैं।

 

भारी बारिश ( Heavy rain ) से बने बाढ़ के हालातों को ( Flood in Kota Division ) देखते हुए जिला कलक्टर ने राजकीय विद्यालयों में दो दिन अवकाश की घोषणा की है। उन्होंने संस्था प्रधानों को स्थिति के अनुरूप स्कूलों में दो दिन तक अवकाश घोषित करने करने के निर्देश दिए हैं। आदेश में स्पष्ट किया गया है कि ऐसे राजकीय स्कूल जहां पानी भरा रहता हो या बच्चों के आने-जाने के दौरान हादसे की आशंका रहती हो, ऐसे स्कूलों में संस्था प्रधान अवकाश घोषित कर सकते हैं।



Flood In Kota, Loksabha Speaker Om Birla On Visit

वहीं इटावा व खातोली में भी बाढ़ के हालात हैं। खातोली कस्बे की निचली बस्तियों में पानी भर गया। यहां सैकड़ो घरों में पानी भरा है। इससे प्रशासन की व्यवस्थाओं की पोल खुल गई है। इटावा नगर में सुखनी नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। नदी किनारे के मकानों में भी पानी घुसने लगा है। प्रशासन ने लोगों को मकानों को खाली करने के लिये अलर्ट किया है। इटावा क्षेत्र में पार्वती, चम्बल, कालीसिंध में उफान के बाद दो दर्जन से अधिक गांव के कई क्षेत्र टापू बन गए हैं।

Flood In Kota, Loksabha Speaker Om Birla On Visit
Show More
Nidhi Mishra Nidhi Mishra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned