बगावती तेवर के बाद शहरी सरकार में मंत्रीमण्डल गठन, महापौर ने साधे सियासी समीकरण

Bhavnesh Gupta

Publish: May, 17 2018 11:21:32 PM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
बगावती तेवर के बाद शहरी सरकार में मंत्रीमण्डल गठन, महापौर ने साधे सियासी समीकरण

शहरी सरकार में मंत्रीमण्डल गठन, महापौर ने साधे सियासी समीकरण

22 समितियों के गठन में 4 नई समिति बनाई गई है, जबकि विद्युत समिति के तीन टुकड़े कर दिए गए। समितियों की कमान देने से लेकर सदस्यों की जिस तरह से स्क्रूटनी गई है, उसमें विधानसभा चुनाव से पहले सियासी समीकरण साधने की कोशिश की गई है। जातिगत दांव—पेज का तालमेल बैठाया गया है। कई नए पार्षदों को मौका दिया गया है, जिससे संबंधित जाति के वोट बैंक को रिझाया जा सके। कईयों की छुट्टी भी गई है।
महापौर अशोक लाहोटी भी समीकरण बैठाने में कामयाब रहे। वे सांगानेर विधानसभा पर नजर गडाए हुए हैं, इसलिए वहां से भाजपा पार्षद विष्णु लाटा को समिति नहीं मिली। लाटा की नजर भी सांगोनर विधानसभा क्षेत्र पर है। लाहोटी के खिलाफ बगावती तेवर दिखाने वालों में लाटा भी शामिल हैं। उधर, उद्योग मंत्री राजपाल सिंह शेखावत के गुट के माने जाने वाले मान पंडित व राखी राठौड़ से महत्वपूर्ण समिति ले ली गई। हालांकि, इस सूची में कद्दावर विधायक व चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ व अशोक परनामी हावी रहे। सराफ ने तो सफाई व विद्युत जैसी महत्वपूर्ण समितियों पर कब्जा जमाए रखा। साथ में एक और पार्षद को जोड़कर 3 समितियां ले ली। उपमहापौर को नई होर्डिंग व नीलामी समिति की कमान सौंपकर भरोसा जताया है। स्वायत्त शासन विभाग ने गुरुवार को इसके आदेश जारी कर दिए।

किसका दबदबा, कौन दबा
—राजपाल सिंह शेखावत (झोटवाड़ा विधानसभा)— शेखावत गुट के माने जाने वाले मान पंडि़त से लोकवाहन समिति लेकर केवल 30 वार्डों में प्रकाश व्यवस्था समिति थमा दी। इसी तरह वित्त समिति में बेहतर काम करती रहीं राखी राठौड़ को भी अपराधों का शमन एवं समझौता समिति देकर औपचारिकता निभाई गई।
—सुरेन्द्र पारीक (हवामहल विधानसभा)— यहां से पहले दो ही पार्षद चेयरमेन थे, लेकिन अब संख्या 3 कर दी गई। ब्राहृमण बाहुल्य वाली इस सीट होने के बावजूद भी किसी ब्राहृमण पार्षद को चेयरमेन नही बनाने का विरोध हुआ था, जिसे इस बार दूर किया गया। अब तेजेश शर्मा को जगह दी गई है।
—अरुण चतुर्वेदी (सिविल लाइन)— यहां भी तीन पार्षदों को चेयरमेन बनाया गया, जिसमें निर्मला शर्मा को जगह दी गई है। लाहोटी भी निर्मला शर्मा को आगे लाना चाह रहे थे।
—नरपत सिंह राजवी (विद्याधर नगर)— यहां भगवत सिंह देवल के अलावा गोपालकृष्ण शर्मा व संजय जांगिड़ को जोड़ा गया। देवल शहर भाजपा अध्यक्ष के खेमे के माने जाते हैं। वहीं, संजय जांगिड़ा महापौर से नजदीकियां हैं। विधायक की नहीं चली है।
—कैलाश वर्मा (बगरू)— यहां नया चेहरा कोई नहीं ळै।
—मोहनलाल गुप्ता (किशनपोल)— प्रकाश गुप्ता की जगह राजेश बिवाल को जगह मिली। विधायक का ज्यादा असर नहीं।

भाजपा प्रत्याशी को हराया, अब चेयरमेन..
अशोक परनामी (आदर्श नगर)— जवाहर नगर कच्ची बस्ती इसी विधानसभा क्षेत्र में है और 24 हजार से मतदाता है। परनामी को यहां लगातार विरोध का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि चुनाव से पहले हर बार पक्के आशियाने का आश्वासन देकर वोट बंटोरते रहे हैं। इसी विरोध को साधने की कोशिश में संतरा वर्मा को चेयरमेन बनाया गया है। वर्मा ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप भाजपा के सामने चुनाव लड़ा था और जीतकर आईं। दावा किया जा रहा है कि संतरा वर्मा ने करीब एक वर्ष पहले दोबारा भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली।

—कालचीरण सराफ (मालवीय नगर)— पहले दो समितियां थीं और अब एक और फुटकर व्यवसाय पुनर्वास समिति लेने मेें कामयाब। कद्दावर नेता का वर्चस्व के चलते हर बार की तरफ अब भी सफाई व विद्युत समिति ले ली।

सांगानेर विधानसभा क्षेत्र, जिसे समझना जरूरी
सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से घनश्याम तिवाड़ी विधायक हैं और अभी सरकार से उनके संबंध किसी से छिपे नहीं हैं। इसीलिए महापौर अशोक लाहोटी यहां से विधानसभा चुनाव लड़ने की जुगत में हैं। सांसद रामचरण बोहरा के खेमे के माने जाने वाले भाजपा पार्षद विष्णु लाटा की भी नजर इस सीट पर है। समितियां गठन नहीं करने, फर्जी पट्टा प्रकरण व अन्य मामलों में लाटा के लाहोटी के खिलाफ बगावती तेवर नजर आ चुके हैं। सांगानेर विधानसभा सीट भी ब्राहृण बाहुल्य मानी जाती हैं और लाटा भी ब्राहृमण हैं। लाटा का मानसोवर और सांगानेर इलाके में अच्छा प्रभाव है। ऐसे में ब्राहृमण वोट बैंक को लेकर सियासी समीकरण साधे गए।

यह 4 नई समिति
होर्डिंग एवं नीलामी समिति, महिला उत्थान समिति, फुटकर व्यवसाय पुनर्वास समिति, सीवरेज संधारण समिति। जबकि, विद्युत एवं सार्वजनिक प्रकाश समिति के तीन टुकड़े कर दिए गए।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष की नियुक्त से पहले अपनी गोटी फिट..
भाजपा के नए प्रदेशाध्यक्ष से पहले शहरी सरकार में मंत्रीमण्डल का गठन कर दिया गया। विधायक अशोक परनामी भाजपा प्रदेशाध्यक्ष से इस्तीफा दे चुके हैं। अब नए अध्यक्ष आएंगे। उनके साथ समन्वय बैठाने में समय लगेगा। जैसा महापौर, शहर भाजपा अध्यक्ष व परनामी चाहें, वैसा ही हो, यह पूरी तरह संभव नहीं है।

ये हैं सचालन समिति, इनके पास अध्यक्ष की कमान
कार्यकारिणी समिति— अशोक लाहोटी, महापौर
वित्त समिति— सत्यनारायण धामाणी
स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति (वार्ड 1 से 31 तक)— संजय जांगिड
स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति (वार्ड 32 से 60 तक)— सर्वेश लोहिवाल
स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति (वार्ड 61 से 91 तक)— राजेश गुप्ता
भवन अनुज्ञा एवं संकर्म समिति— अशोक लाहोटी, महापौर
गन्दी बस्ती सुधार समिति— संतरा वर्मा
नियम व उपविधि समिति— तेजेश कुमार शर्मा
अपराधों का शमन एवं समझौता समिति— राखी राठौड़
लोहवाहन समिति— भगवत सिंह देवल
लाइसेंस समिति— महेश कुमार कलवानी
विद्युत एवं सार्वजनिक प्रकाश समिति (वार्ड 1 से 31 तक)— मान पंडित
विद्युत एवं सार्वजनिक प्रकाश समिति (वार्ड 32 से 60 तक)— चन्द्र भाटिया
विद्युत एवं सार्वजनिक प्रकाश समिति (वार्ड 61 से 91 तक)— राजेश बिवाल
नगरीय विकास कर समिति— निर्मला शर्मा
फायर समिति— मुकेश कुमार लख्यानी
उद्यान विकास एवं पर्यावरण समिति— विमलेश मीणा
पशु नियंत्रण एवं सरंक्षण समिति— नारायणलाल नैनावत
सांस्कृतिक समिति— भंवरलाल सैनी
स्वर्ण जयंती एवं शहर रोजगार समिति— सुरेन्द्र सिंह रोबिन
सामाजिक सहायता एवं लोक कल्याण समिति— गोपालकृष्ण शर्मा
वर्षा जल पुनर्भरण एवं संरक्षण समिति— भवानी सिंह राजावत
होर्डिंग एवं नीलामी समिति— मनोज भारद्वाज
महिला उत्थान समिति— कुसुम यादव
फुटकर व्यवसाय पुनर्वास समिति — बाबूलाल दातोनिया
सीवरेज संधारण समिति— नवरतन नराणिया

13 दिसम्बर,2016 को लिए थे इस्तीफे
शहरी सरकार के गठन के 24 माह 17 दिन बाद महापौर को इस्तीफा हुआ और उसके बाद 12 घंटे बाद पार्टी ने आधी रात नगर निगम के बोर्ड की सभी संचालन समितियों के अध्यक्ष से इस्तीफे ले लिए। अशोक परनामी की मौजूदगी में यह हुआ। नियम-उपनियम समिति सहित संचालन समितियों की संख्या 21 है।

निगम मं 91 पार्षद...
64 भाजपा
19 कांग्रेस
8 निर्दलीय

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned