राजस्थान के चार आयकर अधिकारियों को घर भेजा

केंद्र सरकार(Central Government) ने मंगलवार को भ्रष्टाचार(Corrupt) में लिप्त देशभर के 21 आयकर अधिकारियों(21 Income Tax Officers) को घर भेज(Forced retirement) दिया। इनमें राजस्थान के चार अधिकारी(Four Officers from Rajasthan) शामिल हैं।

By: sanjay kaushik

Updated: 27 Nov 2019, 01:21 AM IST

-केंद्र सरकार ने की 21 अफसरों पर कार्रवाई

-जोधपुर के दो तथा सवाईमाधोपुर-बीकानेर के एक-एक अधिकारी शामिल

-सीबीडीटी ने जारी की पांचवीं सूची

-अब तक 85 को जबरन सेवानिवृत्ति

जोधपुर/नई दिल्ली। केंद्र सरकार(Central Government) ने मंगलवार को भ्रष्टाचार(Corrupt) में लिप्त देशभर के 21 आयकर अधिकारियों(21 Income Tax Officers) को घर भेज(Forced retirement) दिया। इनमें राजस्थान के चार अधिकारी(Four Officers from Rajasthan) शामिल हैं। इसमें जोधपुर के दो और सवाईमाधोपुर तथा बीकानेर का एक-एक अधिकारी शामिल है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने इस संबंध में पांचवीं सूची जारी की। सूची में जोधपुर में पदस्थापित आईटीओ वर्तमान में टैक्स रिकवरी ऑफिसर आर.के. बोथरा व आर.एस. सिसोदिया शामिल हैं। वहीं सवाईमाधोपुर के के.एल. मीना व बीकानेर के एच.के. फुलवारिया शामिल हैं। सीबीडीटी की ओर से अब तक 85 अधिकारियों को घर भेजा जा चुका है। इनमें 64 उच्चाधिकारी शामिल हैं, जिसमें 12 सीबीडीटी के थे।

-नियम 56 (जे) के तहत कार्रवाई

वित्त मंत्रालय के सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए कहा कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों की सेवा नियमावली के नियम 56 (जे) के तहत बी समूह के 21 कर अधिकारियों को भ्रष्टाचार और दूसरे आरोपों में अनिवार्य सेवानिवृत्ति पर भेज दिया है। जानकारों का कहना है कि यह कार्रवाई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लाल किले से दिए गए भाषण के अनुरूप है। प्रधानमंत्री ने लालकिले से अपने संबोधन में कहा था कि कर विभाग में कुछ ऐसे लोग हो सकते हैं जो अपने अधिकारों का गलत इस्तेमाल करते हैं और करदाताओं को बेवजह परेशान करते हैं। ये लोग ईमानदार करदाताओं को अपना निशाना बनाते हैं या फि र मामूली अथवा प्रक्रियात्मक उल्लंघन जैसे छोटे-मोटे मामलों को लेकर जरूरत से ज्यादा कार्रवाई करते हैं।

-ज्यादातर रिश्वत लेते रंगेहाथों पकड़े गए

वित्त मंत्रालय के अनुसार जिन अधिकारियों को जबरन सेवानिवृत्ति दी गई है, उनमें आधे से ज्यादा अधिकारियों को सीबीआई ने कथित तौर पर रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था। एक अधिकारी के बैंक लॉकर में कथित तौर पर 20 लाख रुपए से ज्यादा की नकदी मिली थी, जबकि ठाणे में तैनात एक अधिकारी ने अपने और पत्नी के नाम पर 40 लाख रुपए की चल और अचल संपत्ति अर्जित की थी।

sanjay kaushik Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned