प्रदूषण का कहर, अब नहीं जला सकेंगे भूसा, राजस्थान समेत चार राज्यों पर लगाई रोक

अलवर-भरतपुर में सड़क निर्माण के दौरान धूल नियंत्रण के उपाय नहीं होने पर 50 हजार प्रतिदिन जुर्माना लगाने के निर्देश

By: Shadab Ahmed

Updated: 10 Nov 2017, 08:47 PM IST

जयपुर . राजस्थान समेत उत्तर भारत में प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर पर जा रहा है। शुक्रवार को राज्य सरकार और राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने एक के बाद एक कई निर्देश जारी किए। उधर, एनजीटी ने राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और उत्तरप्रदेश सरकारों को फसलों के भूसा जलाने पर रोक लगाने के आदेश दिए। वहीं राज्य सरकार ने एनसीआर में शामिल अलवर और भरतपुर जिलों के लिए कई निर्देश जारी किए।

 

यह भी पढें : सरकार ने ही बता दिया रानी पद्मिनी को अलाउद्दीन खिलजी की प्रेमिका : तिवाड़ी

 

एनजीटी ने प्रदूषण के स्तर को खतरनाक मानते हुए भूसा जलाने पर रोक सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की तय की है। इसके साथ ही किसानों को भूसा परिवहन और उसके उपयोग के लिए प्रोत्साहित करने के लिए राशि देने पर सरकार को विचार करने के लिए कहा है। इसके अलावा एनसीआर में किसी भी भारी वाहन को प्रवेश नहीं मिल सकेगा। साथ ही निर्माण सामग्री ले जाने वाले ट्रैक्टर-ट्रॉली को भी रोका जाएगा।

 

यह भी पढें : एक फोन ने कराई वार्ता विफल, जाने हडताल में किसका हाथ बताया चिकित्सा मंत्री ने

 

जयपुर-दिल्ली हाइवे पर स्थित मनोहरपुर टोल नाके पर इसके पोस्टर भी चस्पा कर दिए गए। वहीं एनसीआर में शामिल अलवर और भरतपुर जिलों के लिए एनजीटी के निर्देश पर राज्य सरकार भी सख्त हो गई। सरकार ने रसद विभाग को होटल-ढाबों में कोयला और जलाऊ लकड़ी उपयोग करने पर रोक लगाने के लिए कहा है।

 

यह भी पढें : निम्स की दबंगई को सुप्रीम कोर्ट का झटका, जिएगा रामगढ हटेगा अवैध निर्माण

 

इसके साथ ही सार्वजनिक निर्माण विभाग को सड़क निर्माण के दौरान धूल नियंत्रण के उपाय अपनाने को कहा गया है। उपाय नहीं अपनाने पर 50 हजार प्रतिदिन जुर्माना लगाने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा पार्किंग शुल्क को चार गुना कर उसे स्थानीय निकाय में जमा कराने के लिए कहा गया है।

Shadab Ahmed Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned