Fourth Generation : भविष्य में तकनीकों से रोजगार बढेंगे तो नई चुनौतियां भी

फोर्थ जनरेशन इंडस्ट्री के एडवांस्मेंट्स पर टॉक, एफडीपी में जुटे एकेडमिक व इंडस्ट्री के एक्सपर्ट

By: surendra kumar samariya

Published: 14 Sep 2020, 08:25 PM IST

जयपुर

राजस्थान टेक्निकल यूनिवर्सिटी कोटा ( rtu kota ) और पूर्णिमा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग ( poornima college ) के मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट की ओर से 'फैकल्टी डवलपमेंट प्रोग्राम 'इंडस्ट्री 4.0'' आयोजित हुआ। इसमें विभिन्न इंजीनियरिंग कॉलेजों के करीब 250 फैकल्टी मेंबर्स को फोर्थ जनरेशन इंडस्ट्री के एडवांस्मेंट्स की जानकारी मिली। आरटीयू के वीसी प्रो. आर ए गुप्ता इनोग्रेशन किया। मौके पर टेक्युप थर्ड के कॉर्डिनेटर प्रो. धीरेंद्र माथुर व एमएनआईटी जयपुर के प्रो. जी .एस. डंगायच गेस्ट ऑफ ऑनर थे।

प्रो. गुप्ता ने कहा के आरटीयू टेक्युप के तहत रोजाना 8 से 10 फैकल्टी डवलपमेंट प्रोग्राम करा रहा है। गुप्ता ने इंडस्ट्री— इंस्टीट्यूट्स के आपसी समन्वय की महत्ता बताई। कॉलेजों में एकेडमिक्स के साथ रिसर्च की आवश्यकता पर जोर दिया। वहीं, प्रो. धीरेंद्र माथुर ने टेक्युप थर्ड प्रोग्राम की जानकारी दी। कहा कि टेक्युप एक्टिविटीज कराने के लिए 6 माह का एक्सटेंशन मिला है।

प्रो. जी. एस. डंगायच ने 'वेरियस जनरेशन ऑफ इंडस्ट्री' सब्जेक्ट पर विचार रखे। बताया कि फर्स्ट जनरेशन इंडस्ट्री में जहां सिर्फ गिने चुने पीसी हुआ करते थे। वहीं फोर्थ जनरेशन में आईओटी, एआई, रोबोटिक्स व एंड्रॉयड जैसी तकनीकों पर काम हो रहा है। भविष्य में इन तकनीकों की वजह से जहां रोजगार बढ़ेंगे। वहीं नई चुनौतियां भी सामने आएंगी।

एफडीपी में पूर्णिमा ग्रुप के डायरेक्टर राहुल सिंघी, आरटीयू के एफडीपी के इवेंट कॉर्डिनेटर डॉ. बी. डी. गिडवानी, पूर्णिमा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के प्रिंसिपल डॉ. महेश बुंदेले सहित कई नाम शामिल हुए।

surendra kumar samariya Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned