Friendship Day : सावधान! दोस्ती की आड़ में दगाबाजी करते हैं ऐसे लोग

कुछ लोग मित्रता के नाम पर धोखेबाजी भी करते हैं। ज्योतिषाचार्य पंडित नरेंद्र नागर बताते हैं कि ज्योतिषिय ग्रंथों में इस बात का विस्तार से जिक्र किया गया है कि कैसे लोग सच्चे दोस्त होते हैं और कौन दोस्ती गांठकर अपना स्वार्थ सिद्ध करते हैं। कुंडली में ग्रहों की स्थिति के अनुसार यह भी बताया जा सकता है कि कौन से लोग दोस्त बनकर मौका देखकर आपकी पीठ में छुरा घोंप सकते हैं।

By: deepak deewan

Published: 02 Aug 2020, 09:45 AM IST

जयपुर.
देशभर में आज उत्साह से फ्रेंडशिप डे मनाया जा रहा है। दोस्ती का जज्बा ही कुछ ऐसा होता है कि हर किसी को जोश आ जाता है। दोस्त और दोस्ती की यादें जीवनभर हमारा संबल बनी रहती हैं। हालांकि कुछ लोग मित्रता के नाम पर धोखेबाजी भी करते हैं। ज्योतिषाचार्य पंडित नरेंद्र नागर बताते हैं कि ज्योतिषिय ग्रंथों में इस बात का विस्तार से जिक्र किया गया है कि कैसे लोग सच्चे दोस्त होते हैं और कौन दोस्ती गांठकर अपना स्वार्थ सिद्ध करते हैं। कुंडली में ग्रहों की स्थिति के अनुसार यह भी बताया जा सकता है कि कौन से लोग दोस्त बनकर मौका देखकर आपकी पीठ में छुरा घोंप सकते हैं।

ज्योतिषाचार्य पंडित सोमेश परसाई के अनुसार मित्रता के बारे मेें मुख्यत: कुंडली के एकादश भाव से जाना जाता है। इस भाव में अलग—अलग ग्रहों की स्थिति के अनुसार जीवन में दोस्त बनते हैं। एकादश भाव में सूर्य होने पर उच्च सरकारी अधिकारियों, राजनेताओं से मित्रता होती है। इस भाव में चंद्रमा होने पर कलाकार, पायलट, जहाज के कैप्टन, नाविक आदि मित्र बनते हैं। एकादश भाव में मंगल स्थित होने पर खिलाड़ी खासकर पहलवानों से मित्रता होती है. इस भाव में बुध होने पर व्यापारियों से सहज दोस्ती हो जाती है.इस भाव में देवगुरु बृहस्पति के होने पर बैंकिंग, दार्शनिक, पुजारी, धर्मगुरू आदि मित्र होंगे। शुक्र के इस भाव में होने पर गायक—अभिनेता, कलाकार आदि से मित्रता होती है. ऐसे लोगों की महिला मित्रों की संख्या बहुत ज्यादा होगी।

एकादश भाव में शनि होने पर अपनी उम्र से अधिक आयु वाले लोगों से दोस्ती होती है. इन लोगों के नौकरी पेशा, निम्नवृत्ति के लोगों से भी सहज संबंध होते हैं। इस भाव में राहु या केतू होना सबसे खतरनाक होता है. एकादश भाव में राहु या केतू हो तो छद्म मित्र होते हैं अर्थात दोस्त के रूप में दगाबाजी करते हैं. ऐसे लोग आमतौर पर अपने परिजनों या सजातीय लोगों से दूर-दूर रहता है।

deepak deewan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned