UPA के कारण चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग में देरी हुई—नायर

Anand Kumar | Updated: 14 Jun 2019, 11:47:39 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पूर्व प्रमुख और भारतीय जनता पार्टी नेता (बीजेपी) जी माधवन नायर ने यूपीए सरकार पर गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि चंद्रयान-2 को लॉन्च करने की मूल योजना 2012 में थी, लेकिन, यूपीए-2 सरकार के कुछ नीतिगत फैसलों के कारण इसमें देरी हुई.

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पूर्व प्रमुख और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता जी माधवन नायर ने यूपीए सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा कि चंद्रयान-2 को लॉन्च करने की मूल योजना 2012 में थी, लेकिन, तत्कालीन मनमोहन सिंह सरकार की कुछ नीतिगत फैसलों के कारण इसमें देरी हुई. माधवन नायर ने कहा कि नरेंद्र मोदी के सत्ता संभालने के बाद उन्होंने ऐसी परियोजनाओं पर जोर दिया. इनमें परियोजनाओं में चंद्रयान और गगनयान शामिल था.जी माधवन नायर चंद्रयान-1 के कर्ताधर्ता रहे हैं. चंद्रयान-1 भारत का पहला मानवरहित मिशन था. इसे 22 अक्टूबर 2008 को छोड़ा गया था. माधवन नायर 2003 से 2009 तक इसरो के चीफ रहे. कुछ महीने पहले वो बीजेपी में शामिल हुए थे.माधवन नायर ने कहा कि अगस्त 2009 में तय किया गया था कि चंद्रयान-2 को 2012 के अंत में लॉन्च किया जाएगा. लेकिन यनाइटेड प्रोग्रेसिव एलायंस (यूपीए) द्वारा लिए गए राजनीतिक फैसलों की वजह इसमें देरी हुई. उन्होंने आरोप लगाया कि यूपीए सरकार 2014 लोकसभा चुनाव से पहले यूपीए सरकार को बड़ा कर दिखाना चाहती थी, इसी मंसूबे के साथ वे मंगलयान मिशन के साथ आगे बढ़े.बता दें कि मंगलयान मिशन नवंबर 2013 में यानी की यूपीए के शासनकाल में लॉन्च हुआ था कि लेकिन ये यान मंगल ग्रह पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (सितंबर 2014) के कार्यकाल में पहुंचा था.

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned