वृश्चिक लग्न व स्वाति नक्षत्र में होगा गणपति की पूजा

Mohan Murari | Publish: Sep, 11 2018 01:24:05 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

मंदिरों में हो रहे हैं विशेष आयोजन

जयपुर। प्रथम पूज्य के जन्मोत्सव स्वाति नक्षत्र व वृश्चिक लग्न में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। गुरुवार को मध्याह्न में गणेश चतुर्थी होने से इसी दिन गणपति का जन्मोत्सव मनाया जाएगा। शास्त्रों में गणेश पूजन के लिए मध्याह्न का समय श्रेष्ठ माना जाता है। इस दिन सुबह 11: 09 से दोपहर 1:36 बजे तक रहेगा। इसमें सुबह 11:09 से दोपहर 1:25 बजे तक वृश्चिक लग्न सबसे श्रेष्ठ रहेगा। जो लोग चौघड़िया में पूजा करना चाहते हैं वे शुभा का सुबह 6:15 से 7:47 बजे तक, चर व लाभ के 10:51 से 1:30 बजे तकशुभ का शाम 4:59 से 6:03 बजे तक रहेगा, जिसमें गणेश पूजन किया जा सकेगा। गणेशोत्सव को लेकर शहर के गणेश मंदिरों में विशेष आयोजन हो रहे हैं।

मोती डूंगरी गणेश मंदिर में महंत कैलाश शर्मा के सान्निध्य में आज शाम सुगम संगीत का कार्यक्रम होगा। इसमें डॉ. गोपालसिंह व डॉ. पूजा(सारेगामा) और नालंदा कला केंद्र के कलाकार भजनों की प्रस्तुतियां देंगे। इससे एक दिन पहले रेखा ठक्कर ने अपने शिष्यों के साथ कथक की प्रस्तुति देकर श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध कर दिया।

नहर के गणेशजी का विशेष शृंगार करने के लिए सोमवार को पट मंगल रहे। महंत जय शर्मा ने बताया कि मंगलवार को भी पट नहीं खुलेंगे बुधवार को नए शृंगार के साथ नियमित दर्शन सुबह 5:30 बजे से होंगे। इस दौरान मंदिर में रखे भगवान गणपति के चित्र के दर्शन कर सकेंगे। इस दिन सिंजारा महोत्सव मनाया जाएगा।

रोग नाश के लिए दुर्वा अर्पित की
सूरजपोल बाजार स्थित श्री श्वेत सिद्धि विनायक मंदिर में महंत मोहनलाल शर्मा के सान्निध्य में सुबह अभिषेक करने के बाद रोग नाश के लिए मंत्रोच्चार के साथ दुर्वा अर्पित की गई। बुधवार को सिंजारा महोत्सव मनाया जाएगा। सौभाग्य वृद्धि के लिए गजानंद को मेहंदी अर्पित की जाएगी। रात्रि में भजन संध्या का आयोजन होगा।

सजेगी 11 हजार मोदकों की झांकी
चांदपोल परकोटे वाले गणेशजी महाराज के मंदिर में गणेश चतुर्थी महोत्सव के तहत महंत कैलाशचंद्र शर्मा के सान्निध्य में सुबह पंचामृताभिषेक किया गया। इसके बाद मंत्रोच्चार के साथ गणेशजी को दुर्वा अर्पित की गई। भक्तों ने भी अपने कारज पूरे करवाने के लिए गणपति को दुर्वा अर्पित की। प्रवक्ता अमित शर्मा ने बताया बुधवार को 11 हजार मोदकों की झांकी सजाई जाएगी और इसके बाद स्थानीय कलाकार भजनों की प्रस्तुति देंगे। इसी दिन सिंजारा महोत्सव मनाया जाएगा। इस मौके पर गणेशजी को मेहंदी अर्पित की जाएगी और चावल मूंग का भोग लगाया जाएगा। दोपहर में बधाई गान एवं मेहंदी वितरण होगा। गुरुवार को प्रात: पंचामृत स्नान के बाद फूल बंगला व छप्पन भोग की झांकी सजाई जाएगी। बंगाली बाबा आत्माराम ब्रह्मचारी गणेश मंदिर ट्रस्ट के तत्वावधान पुरानी चुंगी दिल्ली रोड स्थित बंगाली बाबा गणेश मंदिर में आज ध्वजारोहण के साथ गणेशोत्सव की शुरूआत हुई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned