scriptGangster Lawrence Vishnoi comes to Ajmer for six years | छह साल से अजमेर आता है गैंगस्टर लॉरेन्स विश्नोई | Patrika News

छह साल से अजमेर आता है गैंगस्टर लॉरेन्स विश्नोई

पंजाब के गायक व कांग्रेसी नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद गैंगस्टर लॉरेन्स विश्नोई व उसकी गैंग फिर से चर्चा में है। खास बात यह है कि लम्बे समय तक अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल की सलाखों के पीछे गुजारने वाला लॉरेन्स 7 माह से तिहाड़ की एक नम्बर जेल में है। इससे पहले वह छह साल से अजमेर आता-जाता रहा। गैंगस्टर लॉरेन्स विश्नोई को जून 2017 में जोधपुर सेन्ट्रल जेल से घूघरा स्थित हाई सिक्योरिटी जेल शिफ्ट किया था। यहां जेल में पहुंचने के साथ ही लॉरेन्स और उसके दो साथी मोबाइल फोन सिमकार्ड लेकर पहुंचे लेकिन जेल के प्रवेश द्वार पर तलाशी में सिमकार्ड बरामद हो गया। हालांकि लॉरेन्स और उसका साथी न्यायालय से बरी हो गए। इसके बाद से लॉरेन्स का अजमेर हाई सिक्योरिटी जेल आना-जाना लगा रहा।

जयपुर

Published: June 01, 2022 08:11:47 pm

पंजाब के गायक व कांग्रेसी नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद गैंगस्टर लॉरेन्स विश्नोई व उसकी गैंग फिर से चर्चा में है। खास बात यह है कि लम्बे समय तक अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल की सलाखों के पीछे गुजारने वाला लॉरेन्स 7 माह से तिहाड़ की एक नम्बर जेल में है। इससे पहले वह छह साल से अजमेर आता-जाता रहा। गैंगस्टर लॉरेन्स विश्नोई को जून 2017 में जोधपुर सेन्ट्रल जेल से घूघरा स्थित हाई सिक्योरिटी जेल शिफ्ट किया था। यहां जेल में पहुंचने के साथ ही लॉरेन्स और उसके दो साथी मोबाइल फोन सिमकार्ड लेकर पहुंचे लेकिन जेल के प्रवेश द्वार पर तलाशी में सिमकार्ड बरामद हो गया। हालांकि लॉरेन्स और उसका साथी न्यायालय से बरी हो गए। इसके बाद से लॉरेन्स का अजमेर हाई सिक्योरिटी जेल आना-जाना लगा रहा।
2-114.png
इधर-उधर गुजारा एक साल

छह साल में कोविड की दूसरी लहर के दौरान 2021 में लॉरेन्स विश्नोई देशभर की जेल में इधर-उधर तारीख पेशी पर घूमता रहा। नवम्बर 2020 में भरतपुर की सेवर जेल से वापस हाई सिक्योरिटी जेल भेजने के बाद उसे पंजाब फाजिल्का, भरतपुर व यूपी के मेरठ, जयपुर सेन्ट्रल जेल और फिर 3 अक्टूबर 2022 में अजमेर के हाई सिक्योरिटी जेल में लाया गया। जहां से 27 दिन बाद उसे पुन: 31 अक्टूबर को दिल्ली तिहाड़ जेल में शिफ्ट कर दिया।
पहले सिमकार्ड-फिर मोबाइल फोन

घूघरा हाई सिक्योरिटी जेल में पहली मर्तबा लॉरेन्स अपने दो साथियों के साथ लाया गया था। तब लॉरेन्स और उसके साथियों से मोबाइल सिमकार्ड बरामद किया लेकिन जेल व पुलिस प्रशासन प्रकरण को कोर्ट में आरोप साबित नहीं कर सके। लॉरेन्स व उसके साथी प्रकरण में बरी हो गए।
नवम्बर 2020 में भरतपुर सेवर जेल से शिफ्ट किए गए लॉरेन्स विश्नोई के बैग की तत्कालीन जेल अधीक्षक प्रीति चौधरी ने बैग स्केनर मशीन से तलाशी ली। बैग में बने विशेष पॉकेट में कॉर्बन पेपर में लपेटकर रखा मल्टी मीडिया मोबाइल फोन बरामद किया। प्रकरण सिविल लाइन थाने में विचाराधीन है।
पेट्रोल पम्प व्यवसायी से रंगदारी वसूलने के लिए पहले फायरिंग और फिर विदेश में बैठे गुर्गों से धमकाने के मामले में पंजाब फाजिल्का जेल में सजा काट रहे भूपेन्द्रसिंह ने वारदात अंजाम देना कबूला। पम्प व्यवसायी को फिरौती के लिए वाइबर कॉल के जरिए फिर से धमकाया गया। पुलिस पड़ताल में विदेश में बैठे लॉरेन्स विश्नोई के गुर्गों के नाम सामने आए थे।
फैक्ट फाइल

जून 2017 जोधपुर से हाई सिक्योरिटी जेल अजमेर शिफ्ट

जनवरी 2018 अजमेर से भरतपुर की सेवर जेल में शिफ्ट

नवम्बर 2020 भरतपुर से हाई सिक्योरिटी जेल आया

नवम्बर 2020 के बाद पंजाब, जयपुर, मेरठ, दिल्ली, अजमेर, तिहाड़ जेल
अक्टूबर 2022 को अजमेर हाई सिक्योरिटी आया

31 अक्टूबर 2022 को अजमेर से तिहाड़ एक नम्बर में शिफ्ट


इनका कहना है....

करीब सात माह से लॉरेन्स विश्नोई अजमेर में नहीं है। उसको यहां से तिहाड़ जेल में शिफ्ट कर दिया गया है।
पारसमल जांगिड़, जेल अधीक्षक हाई सिक्योरिटी जेल

newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Assembly Speaker Election: महाराष्ट्र में विधानसभा स्पीकर का चुनाव आज, भाजपा और महा विकास अघाड़ी के बीच सीधी टक्करमस्क-बेजोस सहित कई अरबपतियों की दौलत में भारी गिरावट, जुकरबर्ग की संपत्ति हुई आधीबिहार में पैसेंजर ट्रेन के इंजन में लगी आग, रक्सौल से नरकटियागंज जा रही थी रेलगाड़ीराहुल गांधी के बयान को उदयपुर की घटना से जोड़ा, जयपुर में रिपोर्ट दर्जMumbai News Live Updates: संजय राउत का तंज, शतरंज में वजीर और जिंदगी में जमीर मर जाए तो समझो खेल खत्मMaharashtra Politics: सीएम शिंदे और डिप्टी सीएम फडणवीस को गर्वनर भगत सिंह कोश्यारी ने खिलाई मिठाई, तो चढ़ गया सियासी पारा!विदेश में छूट्टी मना रहे Kapil Sharma पर आई 7 साल पुरानी मुसीबत, इस चक्कर में कॉमेडियन के खिलाफ हुआ केस दर्जChar Dham Yatra 2022: चार धामा यात्रा को लेकर आई बड़ी खबर, केदारनाथ धाम गर्भगृह के दर्शन पर लगा प्रतिबंध हटा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.