scriptGehlot's bad words, after Sachin, now Gajendra Singh is also useless | गहलोत के बिगड़े बोल,सचिन के बाद अब गजेन्द्रसिंह भी निकम्मे | Patrika News

गहलोत के बिगड़े बोल,सचिन के बाद अब गजेन्द्रसिंह भी निकम्मे

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बाद अब केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत को भी निकम्मा कह डाला। हाल ही में गहलोत ने सचिन और शेखावत दोनों को आपस में मिला हुआ भी बताया था। इस बार गहलोत का गुस्सा पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) पर गलतबयानी के लिए शेखावत पर फूटा है।

जयपुर

Published: July 03, 2022 10:34:08 pm

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बाद अब केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत को भी निकम्मा कह डाला। हाल ही में गहलोत ने सचिन और शेखावत दोनों को आपस में मिला हुआ भी बताया था। इस बार गहलोत का गुस्सा पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) पर गलतबयानी के लिए शेखावत पर फूटा है।
ashok gehlot
ashok gehlot
मुख्यमंत्री शनिवार को अपने निवास पर आयोजित एक कार्य₹म में केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत पर जमकर बरसे। ईआरसीपी पर आयोजित कार्यशाला में गहलोत ने कहा कि पैसा हमारा हैं, जमीन हमारी है। इसके बावजूद केन्द्र सरकार ने इस परियोजना पर रोक लगा दी। उन्होंने इसके लिए केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत को जिम्मेदार ठहराया।
9 हजार 600 करोड़ का बजट राज्य कोष से:

गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार ने इस परियोजना के लिए 9 हजार 600 करोड़ का बजट राज्य कोष (स्टेट फंड) से जारी किया है। जब इस प्रोजेक्ट में अभी तक राज्य का पैसा लग रहा है और पानी हमारे हिस्से का है तो केन्द्र सरकार हमें काम रोकने के लिए कैसे कह सकती है?
13 जिलों के जनप्रतिनिधि रहे मौजूद:

गहलोत ने कहा कि राजस्थान की जनता देख रही है कि उनके हक का पानी रोकने के लिए केन्द्र की भाजपा कैसे रोड़े अटका रही है। इस कार्यशाला में 13 जिलों के विधायक, जिला प्रमुख, प्रधान, पूर्व विधायक, पूर्व सांसद और अन्य जन प्रतिनिधि मौजूद थे।
6 जुलाई को प्रदेशस्तरीय कार्यक्रम:

कार्यशाला में तय किया गया कि 6 जुलाई को बिड़ला ऑडिटोरियम में प्रदेशस्तरीय कार्य₹म का आयोजन किया जाएगा, जिसमें सभी जिलों के विधायक, जिला प्रमुख, सरपंचों के अलावा निवर्तमान जिलाध्यक्ष, ब्लॉक अध्यक्ष हिस्सा लेंगे। साथ ही, जिन 13 जिलों को यह परियोजना प्रभावित करती हैं, वहां के नेता विशेष रूप से शामिल होंगे। कार्य₹म में परियोजना को लेकर आंदोलन की रूपरेखा तैयार की जाएगी। साथ ही, प्रदेशभर में परियोजना को लेकर हस्ताक्षर अभियान चलाने के साथ कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।
...एक निकम्मे व्यक्ति को क्यों मंत्री बनाया
शेखावत पर निशाना साधते हुए सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक निकम्मे व्यक्ति को क्यों मंत्री बनाया। उन्होंने कहा कि शेखावत पीएम की बैठक में एबसेंट माइंड रहते हैं। गहलोत ने कहा कि राज्य के तेरह जिलों को फायदा देने वाली इस योजना के लिए खुद पीएम ने वादा किया था। जबकि जलशक्ति मंत्रालय ने इस परियोजना पर रोक लगा दी।
पलटवार... हार नहीं पचा पा रहे गहलोत: शेखावत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के बीच जुबानी जंग जारी है। ईस्टर्न कैनाल मुद् पर शनिवार को गहलोत ने केंद्रीय मंत्री को एबसेंट माइंड और निकम्मा कहा था। इस पर शेखावत ने बयान जारी कर कहा कि जोधपुर की जनता ने उन्हें जो प्रचंड बहुमत का आशीर्वाद दिया है उसे गहलोत पचा नहीं पा रहे हैं। साथ ही उन्होंने दोहे के माध्यम से कटाक्ष किया।
शेखावत ने कहा कि , बोली एक अनमोल है जो कोई बोले जानि, हियै तराजु तोल के तब मुख बाहर आनि। शेखावत ने कहा कि मुझसे पहले वे अपनी पार्टी के नेता को भी अपना प्रिय शब्द निकम्मा कह चुके हैं। जो भाषा गहलोत बोल रहे हैं वह एक मुख्यमंत्री से अपेक्षा नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि कुर्सी जाने के डर से ऐसे बयान दे रहे हैं। शेखावत ने कहा कि पहले मुख्यमंत्री ने सचिन पायलट पर उनसे मिलकर सरकार गिराने का षड्यंत्र रचने का झूठ बोला। अब ईआरसीपी को लेकर भी एक झूठ गहलोत साहब रोज बोल रहे हैं।
गहलोत बार-बार बयान दे रहे हैं कि प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय परियोजना का वादा किया था। जबकि यह पहले ही स्पष्ट किया जा चुका है कि 2018 में प्रधानमंत्री ने ईआरसीपी को लेकर जयपुर में केवल इतना कहा था कि यह योजना उनके पास भेजी गई है। सारे पक्षों से बातचीत कर हम इस पर संवेदनशीलता से विचार करेंगे। अजमेर में भी कहा था कि इस योजना पर विचार चल रहा है। उन्होंने आरोप जड़ा कि गहलोत को उम्मीद है कि एक झूठ सौ बार बोलने से वो सच हो जाएगा, पर ऐसा होता नहीं है। शेखावत ने कहा कि ईआरसीपी को लेकर गहलोत केवल और केवल भ्रम की राजनीति कर रहे है।
newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

जाने-माने लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला, चाकुओं से गोदकर किया घायलमनीष सिसोदिया का BJP पर निशाना, कहा - 'रेवड़ी बोलकर मजाक उड़ाने वाले चला रहे दोस्तवादी मॉडल'सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.