प्राचार्य को निलंबित करने के विरोध में उतरीं छात्राएं

rajasthan education department : दौसा जिले के महवा स्थित रसीदपुर आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय की छात्राओं ने गेट पर ताला जड़कर विरोध प्रदर्शन किया।

 

By: Deendayal Koli

Published: 13 Aug 2019, 01:08 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर। rajasthan education department : जब तक स्कूल में प्राचार्य को वापस नहीं लगाया जाता तब तक स्कूल का गेट नहीं खोला जाएगा। यह कहना था दौसा जिले के महवा स्थित रसीदपुर आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय की छात्राओं का। दरअसल, वे निलंबित प्राचार्य की बहाली की मांग कर रही हैं।छात्र-छात्राओं ने मंगलवार को सुबह स्कूल के गेट पर ताला जड़ कर विरोध-प्रदर्शन किया।उनका कहना है कि जल्द से जल्द प्राचार्य को बहाल कर वापस यही लगाया जाए। इस दौरान विद्यालय स्टाफ ने बालक बालिकाओं से काफी समझाइश की। छात्राओं का कहना है कि स्कूल गेट तब ही खुलेगा जब प्राचार्य को वापस यहां लगाया जाएगा। चाहे कितने ही दिन गेट बंद क्यों न रखना पड़े। लेकिन विद्यालय गेट नहीं खोला। हालांकि हादसे के बाद मृतक छात्रा के परिजनों ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। साथ ही पुलिस थाने में भी मामला दर्ज करवाया गया था। जिसके बाद कलक्टर ने कार्रवाई करते हुए प्राचार्य को निलंबित कर दिया था।

यह है मामला

पिछले सप्ताह महवा स्थित रसीदपुर आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में पोषाहार वितरण ( mid day meal ) के दौरान गरम दाल में गिरने से दो बालिका घायल हो गई जिसमें एक बालिका की उपचार के दौरान मौत हो गई। मामले की गंभीरता से लेकर दौसा जिला कलक्टर अविचल चतुर्वेदी ने प्राचार्य मोतीलाल मीणा को निलंबित कर दिया गया था।

पोषाहार बनाने पर उठे थे सवाल

जिस तरह से स्कूलों में पोषाहार बनाया जा रहा है उस पर कई बार सवाल भी उठ चुके हैं। क्योंकि पोषाहर बनने वाले स्थान पर बच्चों के प्रवेश पर पाबंदी है। लेकिन स्कूल प्रशासन की लापरवाही के कारण छोटे बच्चे वहां पहुंच जाते हैं। कई बार तो बच्चों को खुद ही भेज दिया जाता है। पोषाहार बनने के बाद बच्चे ही परोसते नजर आते हैं। जबकि नियमानुसार ऐसा नहीं होना चाहिए। क्योंकि गर्म पोषाहार गिरने से भी बच्चे हादसे का शिकार हो सकते हैं।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned