Dating के नाम पर लड़कियां लगा रही हैं लड़कों को चूना

आज के दौर में डेटिंग एप्स युवाओं के बीच बहुत लोकप्रिय हो गए है। इन डेटिंग्स एप्स और साइट के जरिए लोगों को अपना जीवनसाथी मिल रहा है तो कई लोगों के साथ ठगी भी रही है। कुछ दिन पहले ही ड्रीम गर्ल नाम कि फिल्म रिलीज हुई थी जो डेटिंग और चैटिंग के नाम पर हो रहे गोरखधंधे को उजागर करती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि ऑनलाइन डेटिंग के नाम पर बहुत बड़ा फर्जीवाड़ा हो रहा है।

ऐसे काम करती हैं फेक डेटिंग साइट
साइबर क्राइम विभाग के एक अधिकारी के मुताबिक, जो लोग फेक डेटिंग एप्स और वेबसाइट चलाते हैं, वह सबसे पहले महिलाओं की फर्जी प्रोफाइल बनाकर अपलोड कर
ते हैं। इसके जरिए युवाओं को मेंबरशिप लेने के लिए सिल्वर, गोल्ड और प्लेटिनम ऑफर्स दिए जाते हैं। इसके बाद रजिस्ट्रेशन के लिए 1,000 रुपये की भी मांग की जाती है।

युवाओं को डेट पर जाने का दिया जाता है झांसा
रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी होने के बाद यूजर्स युवती लड़कों से फोन के जरिए संपर्क करती है। बातचीत के दौरान युवाओं को तीन से चार लाख रुपये जमा कराने को कहा जाता
है, जिससे वह अपनी पसंद की लड़की के साथ डेट पर जा सकें। साथ ही उनसे वादा किया जाता है कि उनके पैसे वापस कर दिए जाएंगे। हालांकि, पैसे जमा कराने के बाद
युवती कुछ समय तक लगातार बात करती है और फिर इसके बाद कॉल आना भी बंद हो जाता है।

युवाओं को लगता है लाखों रुपये का चूना
जब युवक बार-बार अपनी पसंदीदा महिला से नहीं मिल पाते तब उनको अपने ठगे जाने का अहसास होता है। जब युवक अपना पैसा वापस मांगता है, तो उन्हें कहा जाता है
कि वह पहले पांच लाख रुपये और जमा करें, इसके बाद ही उसमें से निश्चित रकम काटकर पूरी राशि वापस कर दी जाएगी। लेकिन, ठगे गए युवक को पैसे वापस नहीं
मिलते हैं।

फर्जी डेटिंग वेबसाइट ऐसे करती हैं अपना बचाव
रिपोर्ट के अनुसार, ये फेक डेटिंग वेबसाइट पुलिस से बचने के लिए लगातार अपने ऑफिस की जगह को बदलती रहती हैं, जिससे उनकी लोकेशन की सटीक जानकारी न
मिल सके। साथ ही ये लोग फीचर फोन का इस्तेमाल करते हैं। इतना ही नहीं जब इन लोगों को शक होता है कि पुलिस को उनकी जानकारी का पता चल गया है, तो वह
पुरानी सिम को नष्ट कर नया नंबर चालू कर लेते हैं।

पिछले साल इस लड़की ने घटना को दिया था अंजाम
बीते वर्ष नवंबर में एक घटना सामने आई थी, जिसमें एक युवती ने कई लड़कों को डेटिंग एप्स के जरिए ठगा था। कोलकाता की रहने वाली 25 वर्षिय निवेदिता ने हैदराबाद
के कई लड़कों को चूना लगाया था। नेविदिता अंग्रेजी में पोस्ट ग्रेजुएट थी, लेकिन इसके बाद वह दो वर्षों तक बेरोजगार थी। ऐसे में उसे जब एक सहेली ने 20 हजार रुपये
महीने की नौकरी का प्रस्ताव दिया, तो उसने सहेली के बताए उस कॉल सेंटर में काम करना शुरू कर दिया था। निवेदिता ने अपने काम के बारे में अपने घरवालों तक को
भी नहीं बताया था। दिवाली से ठीक पहले विशाखापत्तनम पुलिस ने कोलकाता के साइबर क्राइम विभाग के अधिकारियों ने उसके दफ्तर पर छापा मारकर उसके साथ की
23 युवतियों और 26 लोगों को गिरफ्तार कर लिया था।

इस अपराध में हुई थी गिरफ्तारी
दरअसल, निवेदिता और उसके साथ काम करने वाली दूसरी युवतियों पर आरोप लगा था कि वह युवकों को महिलाओं के साथ डेटिंग का लालच देकर अपने जाल में फंसाती
थी। युवकों को कॉलेज छात्राओं के अलावा मॉडल और अभिनेत्रियों के साथ डेटिंग करने का लालच दिया जाता था। इसके एवज में उन युवकों से फीस के तौर पर अच्छी
खासी रकम जमा करवाई जाती थी। यह रकम हजारों और लाखों में होती थी।

poonam shama Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned