सोने ने लगाई 710 रुपए की छलांग, 54 हजारी होने के करीब

कोरोना वायरस के कारण (Coronavirus impact on gold) सुरक्षित निवेश का ठिकाना होने के चलते सोना-चांदी ( Gold-Silver ) में खूब निवेश हो रहा है, जिससे पिछले सात दिनों में ही सोना (Gold price hike) 2760 रुपए प्रति दस ग्राम और चांदी 11,600 रुपए प्रति किलोग्राम तक उछल गए है। सोमवार को फिर सोने के दाम में तगड़ी उछाल देखने को मिली है। सोना 710 रुपए की छलांग लगाकर 54 हजार के करीब 53,360 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया।

By: Narendra Kumar Solanki

Updated: 27 Jul 2020, 08:35 PM IST

जयपुर। कोरोना वायरस के कारण सुरक्षित निवेश का ठिकाना होने के चलते सोना-चांदी में खूब निवेश हो रहा है, जिससे पिछले सात दिनों में ही सोना 2760 रुपए प्रति दस ग्राम और चांदी 11,600 रुपए प्रति किलोग्राम तक उछल गए है। सोमवार को फिर सोने के दाम में तगड़ी उछाल देखने को मिली है। सोना 710 रुपए की छलांग लगाकर 54 हजार के करीब 53,360 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। जेवराती सोने के भाव भी 700 रुपए की तेजी साथ 50,000 रुपए का जादुई आंकड़ा पार करते हुए 50,200 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गए। चांदी के भाव 3600 रुपए उछलकर 65,300 रुपए प्रति किलोग्राम पर बोले गए।
पिछले हफ्ते कितना बढ़ा सोना
पिछले सप्ताह सोने में कुल 4 फीसदी की तेजी आई। कोरोना वायरस की लगातार बढ़ती कीमतों की वजह ये है कि कोरोना काल में लोग सुरक्षित निवेश करना चाहते हैं, इसलिए सोने में निवेश कर रहे हैं।

चांदी में आई कितनी तेजी
पिछले एक हफ्ते में चांदी की कीमत में 15 फीसदी की तेजी आई। चांदी की बढ़ती कीमतों की वजह भी कोरोना वायरस ही है। लोग सोने में तो निवेश करते ही है, चांदी में भी निवेश कर रहे हैं।

ग्लोबल मार्केट में सोने का हाल
ग्लोबल मार्केट में सोना 1900 डॉलर प्रति औंस का स्तर पार कर गया है। ऐसा 2011 के बाद पहली बार हुआ है। इसकी वजह अमेरिका और चीन के बीच बढ़ता तनाव है और साथ ही तमाम देशों में बढ़ता कोरोना वायरस का असर है। बता दें कि तमाम कोशिशों के बावजूद दुनिया भर में कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है।

इस साल 30 फीसदी तक बढ़ी सोने की कीमत
सोने की कीमत में इस साल अब तक करीब 30 फीसदी की तेजी आ चुकी है। वहीं जानकार मानते हैं कि सोने की कीमतों में अभी और तेजी आएगी और ये 63 से लेकर 65 हजार तक का स्तर छू सकता है।

मुसीबत की घड़ी में हमेशा बढ़ी है सोने की चमक
सोना हमेशा ही मुसीबत की घड़ी में खूब चमका है। 1979 में कई युद्ध हुए और उस साल सोना करीब 120 फीसदी उछला था। अभी हाल ही में 2014 में सीरिया पर अमेरिका का खतरा मंडरा रहा था तो भी सोने के दाम आसमान छूने लगे थे। हालांकि, बाद में यह अपने पुराने स्तर पर आ गया। जब ईरान से अमेरिका का तनाव बढ़ा या फिर जब चीन-अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर की स्थिति बनी, तब भी सोने की कीमत बढ़ी।

सोने का आयात 94 प्रतिशत घटा
देश में सोने का आयात चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 94 प्रतिशत घटकर 68.8 करोड़ डॉलर या 5160 करोड़ रुपए पर आ गया। वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों में यह जानकारी मिली है। सोना आयात देश के चालू खाते के घाटे (कैड) को प्रभावित करता है। कोविड-19 महामारी की वजह से सोने की मांग में गिरावट आई है, जिससे सोने का आयात भी नीचे आ गया है। इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में सोने का आयात 11.5 अरब डॉलर या 86,250 करोड़ रुपए रहा था। इसी तरह आलोच्य तिमाही के दौरन चांदी का आयात भी 45 प्रतिशत घटकर 57.5 करोड़ डॉलर या 4300 करोड़ रुपए रह गया।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned