मंगल टीका: इधर सहयोग की आस, उधर निमंत्रण पत्र से प्रयास

कोरोना वैक्सीनेशन को गति देने के लिए जुटे सरकारी विभाग

पार्षद, सामाजिक संगठनों, कारोबारियों की ली जा रही मदद

By: Amit Pareek

Published: 03 Apr 2021, 02:40 PM IST

जयपुर. कोरोना महामारी को पस्त करने के लिए सरकारी महकमों ने फिर एक बार कमर कस ली है। इस बार मंगल टीके के लिए जागरूकता पैदा करने और लोगों को ज्यादा से ज्यादा वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित किया जा रहा है। दोनों ही नगर निगम भी कोरोना को होम करने के इस यज्ञ में अपने-अपने स्तर पर आहुति दे रहे हैं। ग्रेटर नगर निगम जहां सहयोग के बूते कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मैदान में उतरा है वहीं हैरिटेज ने अनूठी पहल के जरिए वायरस को हराने की ठानी है।
जानकारी के अनुसार राजधानी में जिला प्रशासन और चिकित्सा विभाग के सहयोग से 500 स्थानों पर कोविड वैक्सीन शिविर लगाए जाएंगे। इन शिविरों में 45 वर्ष या अधिक उम्र के लोगों को टीके लगाए जाएंगे। ग्रेटर नगर निगम के उपमहापौर पुनीत कर्णावट ने कहा कि पार्षदों, विभिन्न समाज, सामाजिक संगठनों, शिक्षण संस्थानों, धार्मिक-व्यापारिक समूहों की मदद से 500 शिविर लगाए जाएंगे। हर शिविर में 200 से 250 व्यक्तियों को टीका लगाया जाएगा। इन शिविरों के जरिए एक लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण होगा। उपमहापौर ने कोविड टीकाकरण के नि:शुल्क शिविर लगाने में सहायता प्राप्त करने के लिए हैल्पलाइन नंबर 8764880002 भी जारी किया है।

घर-घर भेजे जा रहे निमंत्रण पत्र

कोरोना टीकाकरण के प्रति आमजन में जागरूकता लाने एवं ज्यादा से ज्यादा लोगों का टीकाकरण करने के लिए हैरिटेज नगर निगम की ओर से नई पहल की गई है। महापौर मुनेश गुर्जर और आयुक्त लोक बंधु की पहल पर हैरिटेज नगर निगम की ओर से हवामहल, आमेर, आदर्श नगर, किशनपोल और सिविल लाइंस विधानसभा क्षेत्र के हर घर में टीकाकरण निमंत्रण पत्र भेजा जा रहा है। निमंत्रण पत्र में 45 वर्ष और उससे ऊपर के सभी लोगों को टीका लगवाने के लिए नजदीकी टीकाकरण केंद्र पर आमंत्रित किया गया है। उधर, आयुक्त लोक बंधु ने सभी जोन उपायुक्तों को कोरोना प्रोटोकॉल की पालना एवं टीकाकरण की गति को बढ़ाने के लिए वार्ड वाइज टीम का गठन करने के निर्देश दिए हैं।

Amit Pareek
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned