सरकार राजस्थान में बढ़ाएगी शराब का कारोबार, आबकारी नियमों में किया संशोधन

सरकार राजस्थान में बढ़ाएगी शराब का कारोबार, आबकारी नियमों में किया संशोधन

kamlesh sharma | Updated: 25 Jun 2018, 06:24:03 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

प्रदेश में शराबबंदी के लिए चल रहे आंदोलन के बीच अब राज्य सरकार ने शराब के कारोबार को बढ़ाने के लिए छोटे होटल मालिकों को प्रोत्साहन देना शुरू कर दिया है।

शरद शर्मा/जयपुर। प्रदेश में शराबबंदी के लिए चल रहे आंदोलन के बीच अब राज्य सरकार ने शराब के कारोबार को बढ़ाने के लिए छोटे होटल मालिकों को प्रोत्साहन देना शुरू कर दिया है। इसके तहत अब प्रदेश में 20 कमरे वाले होटलों को भी बार का लाइसेंस मिल सकेगा। इसके लिए राज्य सरकार ने अपने आबकारी नियमों में संशोधन किया है। राज्य वित्त विभाग की ओर से इस संबंध में आदेश जारी किए गए हैं।

वित्त विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार, राज्य सरकार ने राजस्थान एक्साइज एक्ट के नियम 41 के तहत राजस्थान एक्साइज होटल एण्ड क्लब बार लाइसेंस नियम में संशोधन किया है। इसके तहत प्रदेश में अब 20 कमरे के होटल भी बार का संचालन कर सकेंगे। इसके लिए होटल को आबकारी विभाग में लाइसेंस के लिए आवेदन करने के लिए नियम में छूट प्रदान की गई है। इस नियम को द्वितीय संशोधन नियम के रूप में शामिल किया गया है।

पहले 50 कमरों पर लागू था नियम


जानकारी के अनुसार, राज्य सरकार ने पूर्व में प्रथम संशोधन के तहत 50 कमरों या इससे अधिक कमरों के होटल और क्लब को ही बार के लिए आवेदन करने की पात्रता दी थी। अब इस नियम में संशोधन कर दिया गया है।

राजस्व बढ़ाने की कवायद


गौरतलब है कि आबकारी विभाग के जरिए हर साल राज्य सरकार को हजारों करोड़ रुपए की आय होती है। गत वित्तीय वर्ष में सरकार को इस मदृ में करीब सात हजार आठ सौं करोड़ रुपए से अधिक की आय हुई थी। हालांकि यह राज्य सरकार की ओर से अनुमानित आय से कम थी। वर्तमान वित्तीय वर्ष में राज्य सरकार की ओर से इस मदृ में 9300 करोड़ रुपए की आय प्रस्तावित है।

पांच साल में बढ़ा 2000 करोड़


राज्य सरकार के आबकारी राजस्व हर साल करीब 12 फीसदी से अधिक की बढ़ोतरी हो रही है। वर्ष 2014—15 में प्रदेश का आबकारी राजस्व 5585 करोड़ रुपए से अधिक था। गत वित्तीय वर्ष में यह बढ़कर 7800 करोड़ रुपए के आंकड़े को पार कर चुका है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned