राजकीय महात्मा गांधी विद्यालय English Medium : 10 अगस्त तक दिए जा सकेंगे आवेदन


.पहले वर्ष कक्षा एक से आठवीं तक, द्वितीय वर्ष 9वीं की कक्षाएं होंगी शुरू
16 अगस्त से कक्षाएं प्रारंभ करने के निर्देश

By: Rakhi Hajela

Updated: 01 Aug 2020, 04:42 PM IST

राजकीय महात्मा गांधी विद्यालय (अंग्रेजी माध्यम) और अन्य राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में कक्षा एक से आठवीं तक प्रवेश प्रक्रिया 10 अगस्त तक चलेगी। पूर्व में विभाग ने 20 जुलाई तक ही आवेदन मांगे थे, लेकिन विभाग ने प्रवेश कार्यक्रम में बदलाव करते हुए तिथि को आगे बढ़ा दिया है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने कक्षा एक से आठवीं तक 16 अगस्त से कक्षाएं प्रारंभ करने के लिए निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि वर्ष 2020-21 के बजट घोषणा में राज्य के 167 ब्लॉकों में चरणबद्ध रूप से महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय (अंग्रेजी माध्यम) स्कूल खोलने की घोषणा की गई थी।
कक्षा एक से पांचवी तक 30.30 सीट
आपको बता दें कि कक्षा एक से पांचवीं के लिए अधिकतम 30 तथा कक्षा छह से आठवीं तक अधिकतम 35 एवं कक्षा नौ से 12 वीं तक 60 विद्यार्थी प्रति सेक्शन निर्धारित किए गए हैं। कक्षा एक में समस्त सीटों के लिए तथा कक्षा दो से आठवीं में पूर्व अध्ययनरत विद्यार्थियों से सत्र 2020.21 में अंग्रेजी माध्यम में अध्ययनरत रहने का विकल्प प्राप्त किया जाए। शेष सीटों के लिए प्रवेश आवेदन प्राप्त कर लॉटरी के माध्यम से किया जाए।

विद्यार्थियों को होगा फायदा
अब ब्लॉक स्तर पर सरकारी स्कूल में विद्यार्थियों को अंग्रेजी माध्यम की पढ़ाई निशुल्क करवाई जा सकेगी। जबकि निजी विद्यालयों में गरीब और मध्यम वर्ग के परिवार के लिए अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में पढ़ाई करवाना वर्तमान दौर में इतना आसान नहीं है।

प्रवेश प्रक्रिया
प्रवेश के लिए आवेदन पत्र लेने की अवधि : 10 अगस्त तक

प्राप्त आवेदन पत्रों की सूची नोटिस बोर्ड पर चस्पा करना :11 अगस्त
कक्षा एक से आठवीं के लिए लॉटरी निकालने की तिथि :13 अगस्त

कक्षा एक से आठवीं तक नवप्रवेशित विद्यार्थियों की सूची विद्यालय के नोटिस बोर्ड पर चस्पा करना :14 अगस्त
कक्षा एक से आठवीं तक प्रवेश कार्य पूर्ण कर कक्षाएं प्रारंभ करना : 16 अगस्त

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned