चावल की सरकारी खरीद 495 लाख टन

केंद्रीय उपभोक्ता, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ( Consumer, Food and Public Distribution ) ने कहा कि आगामी खरीफ विपणन सीजन ( Kharif marketing season ) 2020-21 में चावल ( rice ) की सरकारी खरीद 495.37 लाख टन से होने का अनुमान है। मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार इससे पहले खरीफ विपणन सीजन 2019-20 में धान की वास्तविक खरीद (चावल के रूप में) 420.22 लाख टन हुई थी, जोकि एक रिकॉर्ड है। इस प्रकार आगामी सीजन में चावल की सरकारी खरीद का नया रिकॉर्ड बन सकता है।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 15 Sep 2020, 01:10 PM IST

नई दिल्ली। केंद्रीय उपभोक्ता, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने कहा कि आगामी खरीफ विपणन सीजन 2020-21 में चावल की सरकारी खरीद 495.37 लाख टन से होने का अनुमान है। मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार इससे पहले खरीफ विपणन सीजन 2019-20 में धान की वास्तविक खरीद (चावल के रूप में) 420.22 लाख टन हुई थी, जोकि एक रिकॉर्ड है। इस प्रकार आगामी सीजन में चावल की सरकारी खरीद का नया रिकॉर्ड बन सकता है। मंत्रालय ने कहा कि आगामी खरीफ सीजन में चावल की खरीद 495.37 लाख टन होने का अनुमान है, जोकि पिछले साल के 416 लाख टन से 19.07 फीसदी अधिक है।
वर्ष 2020-21 में तमिलनाडु और महाराष्ट्र में खरीद में 100 फीसदी से ज्यादा का इजाफा होने का अनुमान है, जबकि मध्यप्रदेश, तेलंगाना, बिहार और झारखंड में पिछले साल के मुकाबले खरीद में 50 फीसदी से ज्यादा की वृद्धि हो सकती है। पंजाब में चावल की खरीद का अनुमान 113 लाख टन, छत्तीसगढ़ में 60 लाख टन, तेलंगाना में 50 लाख टन और हरियाणा में 44 लाख टन, आंध्रप्रदेश में 40 लाख टन, उत्तर प्रदेश में 37 लाख टन और ओडिशा में 37 लाख टन होने का अनुमान है। धान खरीद करने वाले राज्यों को जूट बोरियों की मांग को पूरा करने के लिए पहले से बंदोबस्त करने को कहा गया है। बैठक में खाद्य सचिवों की वर्चुअल बैठक में केंद्रीय सचिव ने कोविड-19 के बीच फसलों की कटाई आदि में परस्पर दूरी बनाए रखने के साथ स्वच्छता के जारी दिशानिर्देशों का पालन करने को कहा गया। इस दौरान होने वाली खरीद में खाद्य सब्सिडी के मुद्दे पर भी चर्चा हुई।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned