सरकार का ध्यान सिर्फ घोषणाओं पर, घोषणाओं को पूरा भी किया जाए

राजस्थान विधानसभा में आमेर से भाजपा के विधायक सतीश पूनिया ने कहा कि बजट में जो घोषणाएं की जाएं, उन्हें पूरा किया जाए।

By: Ashish

Published: 18 Mar 2021, 04:25 PM IST

जयपुर
राजस्थान विधानसभा में आमेर से भाजपा के विधायक सतीश पूनिया ने कहा कि बजट में जो घोषणाएं की जाएं, उन्हें पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि बजट में संतुलन और साम्यता होनी चाहिए। पूर्व बजट में 28 जिलों की 61 घोषणाएं जमीन पर नहीं उतरी। सरकार का ध्यान सिर्फ घोषणाओं पर है। इस बार खेती से संबंधित बजट घोषणाएं पिछले बजट से कम की गईं। शहरी विकास के लिए भी कम प्रावधान किए गए। पूनिया ने कहा कि राज्य की जनता के सामने कुछ यक्ष प्रश्न हैं। 59 हजार किसानों को कर्जामाफी का इंतजार है। बेरोजगारों की बड़ी खेप राज्य में है। सरकार, सरकारी नौकरियों की घोषणाओं की पूर्ति कैसे करेंगे, संविदाकर्मियों के नियमितीकरण कैसे किया जाए, कोई रोडमेप नहीं है। राजस्थान की कानून व्यवस्था चुनौतीपूर्ण बनी हुई है। छह लाख से ज्यादा मुकदमें हैं। पूनिया ने कहा कि ऐसा रोडमेप होना चाहिए कि कानून व्यवस्था को दुरूस्त कर पाएं। ताकि शांतिपूर्ण प्रदेश में निवेश को बढ़ावा मिल सके।

स्कूलों में बिजली, टॉयलेट नहीं
राज्य के हजारों स्कूलों में बिजली नहीं है। बच्चियों के लिए टॉयलेट नहीं है। पूरे राज्य को आर्थिक रूप से संबल देने का काम केन्द्र सरकार करती है। 42 फीसदी पैसा केन्द्रीय हस्तानांतरण से मिलेगा। शिक्षा, स्वास्थ्य को निजीकरण की ढकेलने की बजाय सरकार इसकी जिम्मेदारी ले। राज्य में पर्यटन क्षेत्र संभावनओं का क्षेत्र है। केरल जैसा छोटा प्रदेश पर्यटन से आर्थिक फायदा ले रहा है, राजस्थान में अपार संभावनाएं हैं।

वैट करने की मांग सियासी नहीं
विधायक सतीश पूनिया ने कहा कि डीजल पेट्रोल पर वैट कम करने की मांग सियासी नहीं है। राज्य की बजाय बड़ी मात्रा में हरियाणा, गुजरात और एमपी से पेट्रोल, डीजल खरीदा जा रहा है, अगर राज्य में पेट्रोल डीजल पर वैट कम होगा तो रेवेन्यू का वोल्यूम बढ़ेगा। पूनिया ने अंगदान को प्रोत्साहन देने के लिए इनिशिएटिव लेने की बात भी कही।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned