मुकदमे दर्ज कर विपक्ष की आवाज को दबाना चाहती है कांग्रेस सरकार-पूनियां

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ.सतीश पूनियां ने सरकार पर आरोप लगाया है कि वह भाजपा विधायकों और कार्यकर्ताओं पर दर्ज विपक्ष की आवाज को दबाना चाहती है, मगर भाजपा नेता-कार्यकर्ता इससे डरने वाले नहीं हैं।

By: Umesh Sharma

Published: 18 Apr 2020, 04:24 PM IST

जयपुर।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ.सतीश पूनियां ने सरकार पर आरोप लगाया है कि वह भाजपा विधायकों और कार्यकर्ताओं पर दर्ज विपक्ष की आवाज को दबाना चाहती है, मगर भाजपा नेता-कार्यकर्ता इससे डरने वाले नहीं हैं।

पूनियां ने कहा कि कोरोना संक्रमित क्षेत्रों में लाकडाउन का पालन करवाने में विफल सरकार, जनता की आवाज उठाने वाले विपक्ष के जनप्रतिनिधियों और कार्यकर्ताओं पर बदले की कार्रवाई कर रही है। देश जानता है कि तबलीगी जमात के कारण भारत में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैला। राजस्थान में जो मामले सामने आ रहे है उनमें ज्दातर जमात से जुड़े या उनके सम्पर्क में आएं लोग हैं। अगर विधायक मदन दिलावर ने जमातियों के सच को उजागर किया तो उनके ऊपर मुक़दमा दर्ज कर लिया।

विधायक अशोक लाहोटी ने एक समुदाय विशेष के संक्रमित लोगों को मिल रहे वीआईपी ट्रीटमेंट के बारे में कहा तो उन पर मुकदमा दर्ज हो गया। विधायक सुरेश रावत ने अपने विधायक कोष से स्वीकृत राहत सामग्री का वितरण किया तो उनके ऊपर लॉक डाउन के उल्लंघन का आरोप लगा कर नोटिस दे दिया, जबकि चित्तौड़गढ़ में 4 दिन पहले सत्तारूढ़ पार्टी के एक विधायक को लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर रोकने वाली महिला अधिकारी का सरकार ने तबादला कर दिया। झालावाड़ में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रहे प्रमोद शर्मा अस्पताल में घुस कर डॉक्टर को धमकाते रहे, मगर उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। सरकार के दोहरे चरित्र का ये सबसे बड़ा उदाहरण है।

कट्टरपंथियों के खिलाफ घुटने टेक रही है सरकार

पूनियां ने कहा कि भीलवाड़ा की झूठी वाहवाही लूटने वाली सरकार कोटा, भरतपुर, टोंक रामगंज के बाद जोधपुर में बोट बैंक के चक्कर में कट्टरपंथियों के सामने घुटने टेकते हुए नजर आ रही है। जोधपुर में कलेक्टर 12 अप्रेल को BSF और CRPF की मांग करता है और सरकार अपनी नाकामी छुपाने के लिए कलेक्टर पर दबाब डालकर पत्र वापस करवा लेती है।

धर्म और जाति देखकर बांटा जा रहा है राशन

पूनियां ने कहा क भाजपा विपक्ष की अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभा रही है। पूरे प्रदेश में भाजपा के नेता और कार्यकर्ता बिना किसी की जाति—धर्म देखे सेवा और राहत के कामों में लगें है। मगर जनता का धर्म देखकर सरकार की ओर से राशन और भोजन बांटा जा रहा है। रही है।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned