ग्रीन मैन नरपत सिंह आए जयपुर

मैं भारत फाउंडेशन , एनजेआरएस लॉ ऑफिसेज के पदाधिकारियों एवं कानून विशेषज्ञों ने किया स्वागत

By: Rakhi Hajela

Published: 21 Aug 2021, 11:12 PM IST


जयपुर। प्रदेश में वन भूमि पर अतिक्रमण और मुकदमेबाजी से होने वाली पर्यावरणीय क्षति के संभावित समाधान को लेकर लैंड्स लिटिगेशन एंड एन्वायरनमेंट लॉस मुहिम के तहत वन विभाग, मैं भारत फाउंडेशन और एनजेआरएस लॉ ऑफिसेज के कानूनी विशेष लैंड्स लिटिगेशन एंड एन्वायरनमेंट लॉस कार्यक्रम चला रहा है। जिसकी शुरुआत पूर्व हैड ऑफ फॉरेस्ट श्रुति शर्मा ने रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान की खंडार रेंज से की थी। रविवार को गोल्डन बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड विजेता और ग्रीन मैन के नाम से विख्यात मशहूर साइक्लिस्ट नरपत सिंह राजपुरोहित का जयपुर पहुंचने पर मैं भारत फाउंडेशन , एनजेआरएस लॉ ऑफिसेज के पदाधिकारियों एवं कानून विशेषज्ञों ने उनका स्वागत किया। इस दौरान संयुक्त अभिभावक संघ के पदाधिकारियों ने भी उनसे मुलाकात की।
नरपत सिंह सवाईमाधोपुर, टोंक, बूंदी, भीलवाड़ा, चित्तौड़, उदयपुर, सिरोही, माउंट आबू, सोजत और अजमेर आदि जिलों की विभिन्न फॉरेस्ट रेंजों से होते हुए जयपुर पहुंचे। इस दौरान मैं भारत फाउंडेशन के संस्थापक अध्यक्ष और अधिवक्ता रितेश शर्मा ने कहा कि वन भूमि, वन्य जीवों एवं पर्यावरण की प्रभावी सुरक्षा और समुचित विकास के लिए नई नीति का निर्माण जरूरी है। हम तब तक वनों का संरक्षण सुनिश्चित नहीं कर पाएंगे जब तक हम पर्यावरण और विकास के संघर्ष को समाप्त करने का कोई वैकल्पिक उपाय न खोज लें। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता नीलाम्बर झा के अनुसार राष्ट्रीय वन नीति में वनों को महज राजस्व स्रोत के रूप में न देखकर इन्हें पर्यावरणीय संवेदनशीलता एवं संरक्षण के महत्वपूर्ण अवयव के रूप में देखा गया है। लैंड्स लिटिगेशन एंड एनवायरनमेंट लॉस कार्यक्रम में मैं भारत फाउंडेशन और एनजेआरएस लॉ ऑफिसेज द्वारा रिसर्च पेपर और पालिसी डॉक्यूमेंट तयार किया जा रहा है जो जल्द ही विभाग को सौंपा जाएगा।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned