महंगाई के कारण हरी सब्जियां रसोई से बाहर- कम आपूर्ति होने से प्रदेश में बढ़े दाम

महंगाई के कारण हरी सब्जियां रसोई से बाहर- कम आपूर्ति होने से प्रदेश में बढ़े दाम

Punit Kumar | Updated: 28 Oct 2017, 06:24:54 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

न केवल सब्जियां बल्कि उनमें डाले जाने वाले लहसुन, अदरक और मिर्च के दाम भी बहुत अधिक बढ़े हैं।

त्योहारी सीजन के जाने के बाद भी सब्जियों की कीमतों में तेजी जारी है। इन सीजन में आमतौर पर देखा गया है कि सब्जियां सस्ती रहती हैं, लेकिन प्रदेश में इस बार सब्जियों की कीमतों में पिछले एक महीने दौरान भारी बढ़ोतरी देखने को मिला है। जिसका सीधा असर लोगों की जेब पर पड़ रहा है तो वहीं इससे गृहणियों का रसोई बजट भी गड़बड़ा गया है। इस साल राजस्थान में मानसून की बारिश का देर तक सक्रिय रहना माना जा रहा है। जिससे नए सीजन की फसल कटने में देरी के कारण आपूर्ति प्रभावित हुई है। आपको बता दें पिछले चार सप्ताह के दौरान थोक और खुदरा बाजारों में हरी सब्जियां 50 से 60 फीसदी तक महंगी हुई हैं।

 

 

जबकि न केवल सब्जियां बल्कि उनमें डाले जाने वाले लहसुन, अदरक और मिर्च के दाम भी बहुत अधिक बढ़े हैं। इससे आम आदमी का रसोई का बजट गड़बड़ा गया है। तो वहीं शहर की प्रमुख मंडियों में प्याज की कीमतें आग में घी का काम कर रही है। पिछले दस दिनों में प्याज के दाम दोगुने से भी ज्यादा उछल गए हैं। वर्तमान में प्याज के खुदरा भाव 60 रुपए प्रति किलो तक बताए जा रहे है।

 

 

इस समय सब्जियों के दाम बढ़ना कोई नई बात नहीं है, लेकिन कीमतों में इतनी भारी बढ़ोतरी पिछले कुछ वर्षों में कभी नहीं देखी गई। इन हालात का फायदा उठाने के लिए फेरीवाले फूलगोभी 40 रुपए प्रति किलोग्राम बेच रहे हैं। सब्जी व्यापारियों के अनुसार इस समय थोक मंडियों में सब्जियों की आवक बहुत कम है क्योंकि किसान नए सीजन की फसल की कटाई के लिए खेतों में नमी कम होने का इंतजार कर रहे हैं। किसान सब्जियों में मिट्टी के अंश रहने की चिंता से भी फसलों की कटाई नहीं कर रहे हैं।

 

तो वहीं उपज में मिट्टी के अंश रहने से उसकी गुणवत्ता प्रभावित होती है और उसकी कम कीमत मिलती है। इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि उपभोक्ताओं को कुछ और सप्ताह ऊंची कीमतों का बोझ उठाना पड़ेगा। यानि कि इन दिनों उन्हें सस्ते भाव में सब्जियां मिलना मुश्किल ही होगा।

 

सब्जियों के खुदरा भाव प्रति किलो-

 

आलू 10 रुपए प्रति किलो। हालांकि इन दिनों आलू थोड़े सस्ते भाव में बाजार में मिल जा रहे हैं। प्याज 55 से 60, टिंडा 60 रुपए प्रति किलो, अदरक 60, पत्ता गोभी 40 रुपए किलो, हरी मिर्च 40 रुपए किलो, बैगन 20, लहसून 40 से 50 रुपए खुदरा भाव, फूल गोभी 40, भिंडी 50, टमाटर 50 रुपए किलो, नीबू 40, ग्वार फली 60, गाजर 50 से 60 रुपए किलो बाजार में मिल रहा है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned