हरियाली रखेगी दिल की सेहत का खयाल

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित एक नए अध्ययन से पता चला है कि जो लोग अधिक हरी-भरी जगह के पास रहते हैं, उनमें हृदय रोग और स्ट्रोक होने का जोखिम कम होता है।

Kiran Kaur

26 Mar 2020, 04:23 PM IST

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित एक नए अध्ययन से पता चला है कि जो लोग अधिक हरी-भरी जगह के पास रहते हैं, उनमें हृदय रोग और स्ट्रोक होने का जोखिम कम होता है। यह शोध, जो लुइसविले विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों द्वारा किया गया था, तनाव और हृदय रोग के जोखिम के व्यक्तिगत स्तर के मार्करों पर हरे रंग के रिक्त स्थान के प्रभाव को मापने के लिए यह अपनी तरह का पहला अध्ययन है. इसमें विभिन्न आयु समूहों, जातीयता और सामाजिक आर्थिक स्तरों के 408 लोगों ने हिस्सा लिया था। पांच वर्षों तक चले इस शोध के दौरान रक्त और यूरिन के नमूने एकत्र किए गए और फिर रक्त वाहिका की चोट और हृदय रोग के जोखिम के संकेतों के लिए परीक्षण किया गया। प्रतिभागियों के घरों के पास हरे रंग की जगहों के घनत्व को मापने के लिए, शोधकर्ताओं ने नॉर्मलाइज्ड डिफरेंस वेजिटेशन इंडेक्स (एनडीवीआई) नामक उपकरण से डेटा का इस्तेमाल किया, जो वनस्पति घनत्व के स्तर को इंगित करने के लिए उपग्रह इमेजरी पर निर्भर करता है। अध्ययन से पता चला कि हरे-भरे वातावरण में रहने वालों में तनाव की मात्रा काफी काम थी। वे लोग जो हरे भरे स्थान के पास रहते हैं, उनमे रक्त वाहिकाओं की मरम्मत करने की क्षमता उच्च पाई गई। अध्ययन के प्रमुख लेखक डॉ. अरुणी भटनागर, लुइसविले डायबिटीज एंड ओबेसिटी सेंटर के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर और निदेशक हैं। उन्होंने कहा कि हमारे अध्ययन से पता चलता है कि पेड़ों, झाड़ियों और अन्य हरी वनस्पतियों के साथ रहना आपके दिल और रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य के लिए अच्छा हो सकता है। वास्तव में, पड़ोस में हरियाली की मात्रा बढ़ने से हृदय के स्वास्थ्य पर एक सकारात्मक प्रभाव पढता है साथ ही साथ आप तनाव आदि की समस्या से भी बचते हैं। पेड़-पौधों की ताजी हवा आपके फेफड़ों के लिए काफी फायदेमंद होती है।

Kiran Kaur Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned