गंगानगर शुगर मिल ने बनाया सेनेटाइजर, भीलवाड़ा के लिए 10 हजार बोतलें तैयार

प्रदेश के अन्य हिस्सों में भी होगा मुफ्त वितरण, एक लाख निप प्रतिदिन उत्पादन होगा

जयपुर. कोरेना प्रकोप में सेनेटाइजर की किल्लत और कालाबाजारी को देखते हुए अब गंगानगर शुगर मिल ने व्यापक पैमाने पर इसका उत्पादन शुरू कर दिया है। अब तक सरकारी क्षेत्र में देसी शराब का निर्माण करने वाली इस कम्पनी के पांच विभिन्न शहरों में स्थित रिडक्शन सेंटरों पर उत्पादन शुरू हो गया है। कम्पनी निर्मित सेनेटाइजर की करीब 10 हजार निप्स (180 एमएल बोतल) की पहली खेप सबसे पहले प्रदेश में कोरोना संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित भीलवाड़ा में भेजी जाएगी।
ये बोतलें जयपुर स्थित रिडक्शन सेंटर में तैयार की गई हैं। इसके अलावा पूरे प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में भी इसके निशुल्क वितरण की व्यवस्था की जा रही है। सूत्रों के अनुसार सेनेटाइजर की किल्लत को देखते हुए मुख्यमंत्री के स्तर से कम्पनी को इस बारे में निर्देश मिल थे।

एक लाख तक बोतलें प्रतिदिन बनेंगी

कम्पनी अधिकारियों का कहना है कि पांच रिडक्शन सेंटरों पर 90 हजार से 1 लाख बोतलें प्रतिदिन बनाने का लक्ष्य तय किया गया है। इसमें जयपुर केन्द्र पर 50 हजार बोतलें उत्पादित होंगी। इसके अलावा उदयपुर, कोटा, जोधपुर और हनुमानगढ़ के केन्द्रों पर प्र्रति केन्द्र 10 हजार बोतलें हर दिन बनाने का लक्ष्य तय किया गया है।

चार निजी डिस्टलरीज को भी लायसेंस

जानकारी के अनुसार निजी क्षेत्र की चार डिस्टलरीज को भी सेनेटाइजर बनाने क े लिए अल्कोहल लायसेंस जारी किया गया है। ये निजी कम्पनियां सिर्फ प्रदेश में रियायती दरों पर सेनेटाइजर मुहैया कराएंगी।

अभी चल रही कालाबाजारी

कोरोना संक्रमण के बाद जयपुर समेत पूरे प्रदेश में सेनेटाइजर की कालाबाजारी चल रही है। दुकानों पर सेनेटाइजर बोतलों को चार से पांच गुणा अधिक दामों पर बेचा जा रहा है। विसंक्रमित करने के काम आने वाला स्प्रिट भी महंगे दामों पर बेचा जा रहा है।

डब्ल्युएचओ मानदंडों पर तैयार

सरकार के निर्देश पर जीएसएम ने सेनेटाइजर उत्पादन शुरू कर दिया है। 70 प्रतिशत अल्कोहल आधारित यह सेनेटाइजर विश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्धारित मानदंडों पर तैयार किया जा रहा है।
केसर लाल मीणा, महाप्रबंधक- राजस्थान स्टेट गंगानगर शुगर मिल

Pankaj Chaturvedi Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned